header-logo

AUTHENTIC, READABLE, TRUSTED, HOLISTIC INFORMATION IN AYURVEDA AND YOGA

AUTHENTIC, READABLE, TRUSTED, HOLISTIC INFORMATION IN AYURVEDA AND YOGA

बवासीर के मरीजों के लिए डाइट प्लान : Diet Plan for Piles

अर्श के लिए आहार दिनचर्या                                                                                                                                                                      

Piles diet plan

1.प्रातः सुबह उठकर दन्तधावन (बिना कुल्ला किये) से पूर्व खाली पेट 1-2 गिलास गुनगुना पानी एवं नाश्ते से पूर्व पतंजलि आवंला व एलोवेरा स्वरस पियें

संतुलित  योजना

समय आहार  योजना ( शाकाहार )
नाश्ता (8 :30 AM) 1कप पतंजलि दिव्य पेय कम दूध वाली + 1-2 पतंजलि आरोग्य बिस्कुट /कम नमक वाला पतंजलि आरोग्य दलिया / पोहा /उपमा (सूजी)  /अंकुरित अनाज / 2 पतली रोटी (पतंजलि मिश्रित अनाज आटा ) + 1 कटोरी  सब्जी/ मूंग दाल खिचड़ी/ फलो का सलाद (सेब, पपीता, अमरूद )
दिन का भोजन  (12:30-01:30 PM ) 1-2 पतली रोटियां (पतंजलि  मिश्रित अनाज  आटा ) + 1/2 कटोरी चावल (मांण्ड रहित) /खिचड़ी/ मट्ठा, 1 कटोरी हरी सब्जिया (उबली हुई) +1 कटोरी दाल मूंग (पतली ) + 1 प्लेट सलाद l
सांयकालीन भोजन    (5:30-6:00 pm) 1कप पतंजलि दिव्य पेय कम दूध वाली + 1-2 पतंजलि आरोग्य बिस्कुट /सब्जियों का सूप  
रात्रि का भोजन (7: 00 – 8:00 Pm) 1-2  पतली रोटियां (पतंजलि  मिश्रित अनाज  आटा ) + 1 कटोरी हरी सब्जिया (फाइबर युक्त) +1 कटोरी दाल मूंग (पतली )

पथ्य (लेना है)

अनाज: गेहू ,जौ, शाली चावल  

दाले: मसूर दाल, मूंग, गेहूं, अरहर.

फल एवं सब्जियां: सहजन(शिग्रु), टिण्डा, जायफल, परवल, लहसुन, लौकी, तोरई, करेला, कददू, मौसम के अनुसार सब्जियां, चौलाई, बथुआ, अमरुद, आँवला, पपीता, मूली के पत्ते, मेथी, साग, सूरन, फाइबर युक्त फलखीरा, गाजर, सेम, बीन्स

अन्य: हल्का खाना, काला नमक, मट्ठा, ज्यादा पानी पीये, जीरा, हल्दी, सोफ, पोदीना, शहद, गेहूं का ज्वारा, पुनर्नवा, नींबू, हरड़, पंचकोल, हींग

जीवन शैली: उपवास, वस्ति

योग प्राणायाम एवं ध्यान: भस्त्रिका, कपालभांति, बाह्यप्राणायाम, अनुलोम विलोम, भ्रामरी, उदगीथ, उज्जायी, प्रनव जप

आसन: गोमुखासन, मर्कटासन,पश्चिमोत्तानासन, सर्वांगासन, कन्धरासन

अपथ्य( नहीं लेना है)

अनाज: नया धान, मैदा.

दाले: उड़द दाल, काबुली चना, मटर, सोयाबीन, छोले

फल एवं सब्जियां: आलू, शिमला,मिर्च, कटहल, बैंगन, अरबी (गुइया ), भिंडी, जामुन, आड़ू ,कच्चा आम, केला, सभी मिर्चे .

अन्य: तेल, गुड़, समोसा, पकोड़ी, पराठा, चाट, पापड़, नया अनाज, अम्ल, कटु रस प्रधान वाले पदार्थ, सूखी सब्जियाँ, मालपुआ, ठण्डा खाना |

सख्त मना : तैलीय मसालेदार भोजन, मांसाहार, तैल, घी बेकरी उत्पाद, जंक फ़ूड, डिब्बाबंद भोजन|

जीवन शैली: अध्यासन, अधिक व्यायाम, गुस्सा, डर, चिंता, शीतल जल, अत्यधिक भोजन खाना, दिवास्वपन, अधारणीय वेगों को रोकना

योग प्राणायाम एवं ध्यानवैद्यानिर्देशानुसार

आसनउत्कट आसन में ना बैठें (वैद्यानिर्देशानुसार)

yoga

सलाह: यदि मरीज को चाय की आदत है तो इसके स्थान पर 1 कप पतंजलि दिव्य पेय ले सकते हैं |

 

नियमित  रूप से अपनाये :-

(1) ध्यान एवं योग का अभ्यास प्रतिदिन करे (2) ताजा एवं हल्का गर्म भोजन अवश्य करे (3) भोजन धीरे धीरे शांत स्थान मे शांतिपूर्वक, सकारात्मक एवं खुश मन से करे (4) तीन से चार बार भोजन अवश्य करे (5) किसी भी समय का भोजन नहीं त्यागे एवं अत्यधिक भोजन से परहेज करे (6) हफ्ते मे एक बार उपवास कर (7) अमाशय का 1/3rd / 1/4th भाग रिक्त छोड़े (8) भोजन को अच्छी प्रकार से चबाकर एवं धीरेधीरे खाये (9) भोजन लेने के पश्चात 3-5 मिनट टहले  (10) सूर्यादय से पूर्व साथ जाग जाये [5:30 – 6:30 am] (11) प्रतिदिन दो बार दन्त धावन करे (12) प्रतिदिन जिव्हा निर्लेखन करे (13) भोजन लेने के पश्चात थोड़ा टहले एवं रात्रि मे सही समय पर नींद लें [9-10 PM]