Categories: घरेलू नुस्खे

त्वचा में खुजली के लक्षण, कारण, घरेलू उपचार और परहेज (Home Remedies for Itchy Skin)

Contents

खुजली (Introduction of Itching)

खुजली सुनने में साधारण लगती है पर यह कई बीमारियों से ज्यादा परेशान कर देती है। खुजली कई रोगों के लक्षण के रूप में होती है। कई बार यह त्वचा संबंधी किसी बीमारी का संकेत भी हो सकता है। कई बार व्यक्ति बिना खुजली के भी खुजलाता रहता है ऐसा अक्सर मानसिक तनाव के कारण होता है। क्या आपको पता है कि खुजली क्यों होती है और खुजली का इलाज (khujli treatment in hindi) क्या है? आयुर्वेद के अनुसार, सभी रोग वात, पित्त और कफ के असंतुलन के कारण होती है, आयुर्वेद में खुजली को कण्डु कहा गया है। यह एक स्वतंत्र रोग न होकर कई रोगों का लक्षण है।

यह मुख्यतः वात और कफ के दोष के कारण  होता है। दूषित कफ द्वारा वात की सामान्य गति रोक दिए जाने से खुजली होती है। इसी तरह केवल वात विकार के कारण त्वचा में सूखापन आता है और खुजली होती है। आयुर्वेद में इसको  ठीक करने के लिए घरेलू उपाय भी बताए गए हैं। आप इन उपायों को आजमाकर खुजली से छुटकारा पा सकते हैं। आइए जानते हैं कि इसके इलाज  के लिए क्या-क्या उपाय (khujli treatment in hindi)बताए गए हैं।

खुजली क्या है (What is Itching?)

त्वचा हमारे शरीर का सबसे बड़ा अंग होने के साथ ही सबसे संवेदनशील भी है। कई बार त्वचा पर एलर्जी होने से खुजली हो जाती है। इस स्थिति में सिर्फ खुजलाने की इच्छा होती है, इसे एक प्रकार का चर्मरोग भी कह सकते हैं। खुजली सीमित जगह पर यानि शरीर के किसी एक हिस्से में और पूरे शरीर या कई अलग-अलग हिस्सों में हो सकती है। खुजली की समस्या आमतौर पर सूखी त्वचा में देखी जाती है इसके अलावा यह कोई चर्मरोग होने पर या गर्भावस्था में भी देखी जाती है।

खुजली के प्रकार (Types of Itching Disease)

मुख्यतः खुजली दो तरह की होती हैं, जो ये हैंः-

  • बिना दानों वाली खुजली : यह धूल-मिट्टी, प्रदूषण, गरम कपड़ों, धूप में अधिक देर तक रहने या किसी अंदरूनी समस्या के कारण हो सकती है।
  • दानों वाली खुजली : यह ज्यादातर किसी प्रकार के संक्रमण के कारण होती है।

खुजली की बीमारी होने के कारण (Causes of Itchy Skin)

खुजली होने के अनेक कारण हो सकते हैं, जो ये हैंः-

  • वायु प्रदूषण एवं धूल-मिट्टी के सम्पर्क में आने के कारण खुजली हो सकती है।
  • कुछ लोगों को कुछ तरह के भोजन से एलर्जी होती है और ऐसे में अगर वे लोग ऐसा भोजन करते हैं तो खुजली जैसी परेशानी हो सकती है।
  • किसी दवा के साइड इफेक्ट (Side-effect) के कारण खुजली हो सकती है।
  • सूखी (शुष्क) त्वचा भी खुजली का एक मुख्य कारण है।
  • केमिकलयुक्त सौन्दर्य उत्पादों का इस्तेमाल करने से भी खुजली होती है।
  • केमिकलयुक्त हेयर डाई या हेयर कलर का इस्तेमाल करने भी खुजली हो सकती है।
  • मौसम में बदलाव के कारण।
  • किसी तरह के कीड़े का काटना।
  • ठण्डे मौसम में त्वचा की नमी सूख जाती है जिस कारण खुजली की समस्या हो सकती है।
  • यदि आहार में वसा की उचित मात्रा नहीं होगी तो त्वचा में खुजली की समस्या हो सकती है।
  • धूम्रपान करने वालों में खुजली की समस्या ज्यादा देखी जाती है। इसमें स्थित निकोटीन शरीर को नुकसान पहुँचाता है।
  • सर्दियों में इन्डोर हीटिंग के कारण कमरे की नमी खत्म हो जाती है और त्वचा शुष्क (सूख) हो जाती है जिस कारण खुजली होती है।
  • परफ्यूम (इत्र) का त्वचा पर अधिक प्रयोग करना भी खुजली का कारण होता है।
  • त्वचा के लिए कठोर डिटर्जेंट युक्त साबुन का इस्तेमाल करना।
  • अधिक समय तक धूप में रहना।
  • शरीर या अन्य हिस्सों पर जुओं की मौजूदगी।
  • यह गुर्दो (किडनी) की बीमारी, आयरन की कमी या थायराइड की समस्या में हो तो खुजली हो सकती है।
  • मोटे कपड़े, अत्यधिक गर्म कपड़े, बहुत गर्म पानी से स्नान करने से भी होती है।
  • किसी को विशेष रूप से गहनें से भी एलर्जी हो सकती है जैसे किसी एक धातु के कारण एलर्जी हो सकती है, जिससे खुजली होती है।

और पढ़ेंत्वचा रोग में शाल के फायदे

खुजली के कारण होने वाले त्वचा रोग (Disease Caused due to Itchy Skin)

खुजली के कारण लोगों को ये बीमारियों हो सकती हैंः-

त्वचा की सूजन की समस्या (Dermatitis)

इसमें  त्वचा पर सूजन आ जाती है।

और पढ़ें – त्वचा रोग में लोहबान के फायदेएक्जिमा (Eczema)

यह त्वचा की गंभीर बीमारी है। इसमें त्वचा पर खुजली और लाल चकत्ते हो जाते हैं।

सोयरासिस (Psoriasis)

यह autoimmune disorder है। इस कारण भी खुजली होती है।

पीलिया (Jaundice)

इसमें भी खुजली की समस्या देखी जाती है।

थायरॉइड ग्रन्थि विकार (Thyroidism)

इसमें भी खुजली की समस्या देखी जाती है। थायरॉइड ग्रन्थि के विकारों के कारण भी खुजली होती है।

और पढ़े: हाइपरथायरायडिज्म के घरेलू इलाज

खुजली के इलाज के लिए घरेलू उपचार (Home Remedy for Itchy Skin)

आयुर्वेदीय उपचार विशेष रूप से शरीर के दोषों को संतुलित कर रोग शान्त करता है और उस रोग से छुटकारा (khujli treatment in hindi)दिलाने में मदद करता है, जैसे खुजली से छुटकारा दिलाने में घरेलू उपचार (khujli ka gharelu ilaj) मदद करते हैं। अतः यह वात एवं कफ को प्राकृत अवस्था में लाने से इससे छुटकारा मिल सकता है। एलोपैथिक दवाईयों में रहने वाला स्टीरॉइड्स खुजली को केवल ऊपरी सतह पर कुछ देर के लिए ठीक (khujli treatment in hindi) करते हैं। किसी संक्रमण या बाहरी जीव-जन्तुओं के काटने से होने वाले खुजलाहट में भी आयुर्वेद में वर्णित लेप एवं औषधियाँ  खुजली से छुटकारा (khujli ka gharelu ilaj) दिलाने में मदद करते हैं। और पढ़ें – त्वचा रोग में लोहबान के फायदे

इस उपचार के साथ यदि खुजली से छुटकारा चाहिए तो व्यक्ति को परहेज भी करना चाहिए जैसे प्रदूषण एवं धूल-मिट्टी से बचाव करना चाहिए। संक्रमित स्थानों एवं वस्तुओं से दूर रहना चाहिए तथा साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए। यदि किसी विशेष प्रकार के आहार से किसी को एलर्जी है तो उसका सेवन नहीं करना चाहिए। खुजली के उपचार (khujli treatment in hindi) के लिए अनेक तरह के घरेलू नुस्खे आजमाये जा सकते हैं, जो ये हैं-

और पढ़ें: त्वचा रोग में लाभकारी है खरबूज

खुजली के इलाज के लिए करें आम के पेड़ का प्रयोग (Manऔर पढ़ें – त्वचा रोग में लोहबान के फायदेgo Tree Uses to Cure Itching in Hindi)

25 ग्रा. आम के पेड़ की छाल और 25 ग्रा. बबूल के पेड़ की छाल को एक ली. पानी में उबाल लें और इस पानी से खुजली वाली जगह पर भाप लें। फिर इस जगह पर घी लगाएँ।  इससे राहत पाने के लिए ये घरेलू इलाज (khujli ka gharelu ilaj)ट्राई करके देख सकते हैं।

और पढ़ें: खुजली में बबूल के फायदे

गंधक के इस्तेमाल से खुजली ठीक होती है (Sulfur : Home Remedy for Itching Problem in Hindi)

खुजली वाली जगह पर गंधक का लेप वाला घरेलू इलाज (khujli ka gharelu ilaj)बहुत फायदेमंद है।

एलोवेरा के प्रयोग से खुजली से निजात (Aloe vera : Home Remedy to Cure Itchy Skin in Hindi)

प्रात: खाली पेट 20-25 मि.ली. एलोवेरा का जूस पीने से सभीप्रकार के त्वक् विकार एवं खुजली से राहत मिलती है।

एलोवेरा के गूदे का घरेलू इलाज (khujli ka gharelu ilaj) का एक और विकल्प है,एलोवेरा के पल्प को निकालकर त्वचा पर लगाएँ तथा 15 मिनट बाद गरम पानी से धो लें।

और पढ़ें: एलोवेरा के फायदे

और पढ़ें – त्वचा रोग में लोहबान के फायदेगिलोय का उपयोग दिलाता है खुजली से आराम (Giloy : Home Remedy for Itching in Hindi)

सुबह-शाम गिलोय के रस का सेवन करने से भी खुजली एवं त्वक् विकारों में ये घरेलू इलाज (khujli ka gharelu ilaj) आजमाने पर आराम मिल सकता है।

और पढ़ें: गिलोय के फायदे

बेकिंग सोडा से खुजली ठीक होती है (Baking Soda is Beneficial in Itching in Hindi)

बेकिंग सोडा त्वचा के खुजली से छुटकारा पाने के लिए बहुत कारगर तरीके (khujli treatment in hindi)से काम करता है।  नहाने के पानी में एक कप बेकिंग सोडा मिलाकर शुष्क त्वचा को इससे धोएँ।

और पढ़ेंत्वचा रोगों में सेब के फायदे

दशांग जड़ी-बूटी से खुजली का इलाज (Dasang Jari-Buti for Itchy Skin Treatment in Hindi)

दशांग लेप जो आयुर्वेद की दस जड़ी-बूटियों से तैयार किया गया है, खुजली से छुटकारा (khujli treatment in hindi)पाने में बहुत लाभदायक होता है।

और पढ़ेंखुजली में छरीला के फायदे

नारियल तेल का इस्तेमाल खुजली को ठीक करने का उपाय (Coconut Oil Benefits in Itching in Hindi)

शुष्क त्वचा पर नारियल तेल की मालिश करें।

और पढ़ेंत्वचा विकार में चौलाई के फायदे

ओटमील पाउडर से करें खुजली का इलाज (Oatmeal Powder : Home Remedy for Itching Problem in Hindi)

ओटमील पाउडर का घरेलू इलाज (khujli ka gharelu ilaj) को पानी में मिलाकर पेस्ट बनाएँ तथा प्रतिदिन शुष्क त्वचा पर लगाएँ।

और पढ़ेंत्वचा रोग में चांदनी के फायदे

तुलसी से खुजली का इलाज (Tulsi Help in Itching in Hindi)

5-6 तुलसी के पत्तों को पीसकर नारियल तेल में मिलाकर शुष्क त्वचा की मालिश करें। ये घरेलू इलाज (khujli ka gharelu ilaj)  बहुत ही पुराना है।

और पढ़ेंदद्रु या खुजली में जंगली प्याज के फायदे

नींबू से खुजली का उपचार (Lemon Benefits in Itching in Hindi)

नींबू के रस को खुजली वाले स्थान पर लगाकर गुनगुने पानी से धो लें।

नीम से खुजली का इलाज (Benefits of Neem in Itching in Hindi)

नीम के पत्तों को पीसकर प्रभावित जगह पर लगाएँ। इससे निजात पाने का ये तरीका (khujli treatment in hindi)  पुराना है।

शीशम से खुजली का उपचार (Shisham is a Herb in Itching Problem in Hindi)

सीसम के बीज तेल को शुष्क त्वचा एवं प्रभावित स्थान पर लगाएँ।

चंदन का प्रयोग करता है खुजली को ठीक (Chandan : Home Remedy for Itching in Hindi)

खुजली से छुटकारा पाने के लिए खुजली वाली जगह पर चन्दन का तेल लगाने का घरेलू इलाज (khujli ka gharelu ilaj)दादी-नानी भी आजमाते थे।

खुजली से बचने के लिए आहार (Foods in Itching Problem)

जिन लोगों को इसकी परेशानी हमेशा बनी रहती है और खुजली से छुटकारा पाना चाहते हैं, उन्हें इन आहार का सेवन करना चाहिए। घरेलू इलाज (khujli ka gharelu ilaj) के साथ खान-पान पर भी ध्यान रखने की जरूरत होती है।

केले का करें सेवन

यह पोटेशियम से भरपूर होता है। इसके साथ-साथ केला में हिस्टामाइन की मात्रा को कम करने वाले पोषक तत्व, मैग्नेशियम और विटामिन सी भी होता है।

अलसी, कद्दू, तिल या सूरजमुखी के बीज से फायदा

अलसी, कद्दू, तिल या सूरजमुखी के बीजों में मौजूद आवश्यक फैटी एसिड होते हैं। ये फैटी एसिड (fatty acids) त्वचा की खुजली को कम करने में मदद करते है।

सब्जी एवं फल

हरी सब्जियों और फलों का सेवन करें।

अगर खुजली से छुटकारा पाना चाहते हैं तो जंक-फूड एवं बासी भोजन का सेवन बिल्कुल न करें। इससे शरीर में दोष होता है। इससे वात, पित्त व कफ का संतुलन बिगड़ जाता है।

खुजली से बचाव के लिए जीवनशैली (Lifestyle in Itching Problem)

खुजली से बचना है तो इन बातों का ध्यान रखेंः-

  • प्रदूषण एवं धूल-मिट्टी में त्वचा को ढक कर चलें।
  • धूप में जाने से पहले सनक्रीन का इस्तेमाल करें।
  • साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें, रोज स्नान करें।

और पढ़ेंत्वचा रोग में लोहबान के फायदे

खुजली होने पर डॉक्टर से कब सम्पर्क करें (When to Contact Doctor?)

सामान्य तौर पर धूल-मिट्टी, प्रदूषण या ऊनी कपड़े पहनने से जो खुजली होती है तो वह कुछ देर बाद या एक-दो दिन में घरेलू उपचार करने पर अपने आप ही ठीक हो जाती है। अगर खुजली दो-तीन दिन से ज्यादा बनी रहती है, खुजाने पर त्वचा लाल हो जाती है या फिर खुजली के साथ-साथ त्वचा पर दानें निकल आते हैं तो तुरन्त ही इलाज के लिए (khujli treatment in hindi)चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए।

और पढ़ें:

आचार्य श्री बालकृष्ण

आचार्य बालकृष्ण, स्वामी रामदेव जी के साथी और पतंजलि योगपीठ और दिव्य योग मंदिर (ट्रस्ट) के एक संस्थापक स्तंभ है। उन्होंने प्राचीन संतों की आध्यात्मिक परंपरा को ऊँचा किया है। आचार्य बालकृष्ण जी एक प्रसिद्ध विद्वान और एक महान गुरु है, जिनके मार्गदर्शन और नेतृत्व में आयुर्वेदिक उपचार और अनुसंधान ने नए आयामों को छूआ है।

Share
Published by
आचार्य श्री बालकृष्ण

Recent Posts

गले की खराश और दर्द से राहत पाने के लिए आजमाएं ये आयुर्वेदिक घरेलू उपाय

मौसम बदलने पर अक्सर देखा जाता है कि कई लोगों के गले में खराश की समस्या हो जाती है. हालाँकि…

9 months ago

कोरोना से ठीक होने के बाद होने वाली समस्याएं और उनसे बचाव के उपाय

अभी भी पूरा विश्व कोरोना वायरस के संक्रमण से पूरी तरह उबर नहीं पाया है. कुछ महीनों के अंतराल पर…

10 months ago

डेंगू बुखार के लक्षण, कारण, घरेलू उपचार और परहेज (Home Remedies for Dengue Fever)

डेंगू एक गंभीर बीमारी है, जो एडीस एजिप्टी (Aedes egypti) नामक प्रजाति के मच्छरों से फैलता है। इसके कारण हर…

11 months ago

वायु प्रदूषण से होने वाली समस्याएं और इनसे बचने के घरेलू उपाय

वायु प्रदूषण का स्तर दिनोंदिन बढ़ता ही जा रहा है और सर्दियों के मौसम में इसका प्रभाव हमें साफ़ महसूस…

11 months ago

Todari: तोदरी के हैं ढेर सारे फायदे- Acharya Balkrishan Ji (Patanjali)

तोदरी का परिचय (Introduction of Todari) आयुर्वेद में तोदरी का इस्तेमाल बहुत तरह के औषधी बनाने के लिए किया जाता…

2 years ago

Pudina : पुदीना के फायदे, उपयोग और औषधीय गुण | Benefits of Pudina

पुदीना का परिचय (Introduction of Pudina) पुदीना (Pudina) सबसे ज्यादा अपने अनोखे स्वाद के लिए ही जाना जाता है। पुदीने…

2 years ago