Categories: घरेलू नुस्खे

सफेद बालों को काला करने के घरेलू उपाय (Home Remedies for Grey Hair)

सफेद बाल क्या है (Introduction of Safed Baal or Gray Hair)

सामान्य तौर पर उम्र बढ़ने के साथ-साथ हमारे शरीर में मेलानिन नामक तत्व कम बनने लगता है। इसलिए  35-40 वर्ष के बाद धीरे-धीरे ज्यादातर लोगों में सफेद बाल होना (baal kale karne ka tarika) शुरू हो जाते है। ऐसा भी जरूरी नहीं कि केवल इसी उम्र में बाल सफेद होते हैं। अगर आपके आहार में पोषक तत्वों की कमी है या आपकी जीवनशैली अस्वस्थ है या फिर किसी लम्बी बीमारी के चलते ली गई अत्यधिक दवाओं के सेवन से भी बाल झड़ते हैं या समय से पहले बाल सफेद हो जाते हैं।

यदि अनुवांशिक कारण हो तो किसी में बचपन से भी सफेद बाल देखे जाते हैं। अगर आप सफेद बाल को काला करना चाहते हैं तो घरेलू उपचार कर सकते हैं। इस लेख में हम आपको सफेद बालों से छुटकारा पाने के घरेलू (Home remedies for Grey hair) और आयुर्वेदिक उपायों के बारे में बता रहे हैं।

बाल सफेद क्यों होते हैं (Causes of Gray Hair)

आज कल की जीवनशैली में तनाव, प्रदूषण तथा अनुचित आहार के कारण समय से पहले ही बाल सफेद हो जाते है। वर्तमान में 70 फीसदी लोग उम्र से पहले ही सफेद बालों की समस्या (baal kale karne ka tarika) से परेशान हैं।

यह समस्या व्यक्तित्व को खराब कर कई बार व्यक्ति के आत्मविश्वास में कमी लाती है। इसके लिए केवल प्रदूषण ही जिम्मेदार नहीं बल्कि आहार भी एक प्रमुख कारण है। अनुचित आहार लेने से हमारे शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो जाती है।

ऐसे में यह जानना जरुरी है कि किन कारणों से यह समस्या होती है। बालों के सफेद होने के कई कारण होते हैं, जो ये हैंः-

  • शरीर में जब कोशिकाएं मेलानिन को बनाना बंद कर देती है तो बाल सफेद होने लगते हैं। मेलानिन तत्व ही बालों को काला रखने का कारण है।
  • शरीर में विटामिन बी की कमी के कारण मेलानिन की प्रक्रिया बाधित होती है।
  • सिरदर्द या सायनस जैसी बीमारी के कारण भी बाल सफेद हो जाते हैं।
  • ज्यादा तनाव के कारण भी सफेद बाल की समस्या (baal kale karne ka tarika) होने लगती है।
  • हरी सब्जियों व फलों के सेवन न करने से शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। जिसके कारण समय से पहले सफेद बाल की परेशानी हो जाती है।
  • आहार में प्रोटीन, ऑयरन, कैल्शियम और विटामिन को पर्याप्त मात्रा में न लेने से भी बाल सफेद होते हैं।
  • युवाओं में थायरॉइड ग्रंथि के स्राव में अधिकता या कमी के कारण भी समय से पहले ही बाल सफेद होने की परेशानी होने लगती है।
  • लम्बे समय तक दवाइयों का अधिक सेवन करने से भी असमय बाल सफेद हो जाते है।
  • कम उम्र में डायबिटीज का शिकार होने से भी बालों के सफेद होने की समस्या हो जाती है।
  • अनिद्रा (नींद न आने की बीमारी) के कारण भी बाल सफेद होने का खतरा रहता है।
  • एनीमिया या शरीर में खून की कमी के कारण भी बाल सफेद होने लगते हैं।
  • युवाओं में अधिक धूम्रपान व मादक पदार्थों के सेवन से भी बाल सफेद होने की समस्या बढ़ती जा रही है।
  • असमय बालों का सफेद होना अनुवांशिक कारण से भी होता है।
  • बालों पर कैमिकल युक्त शैम्पू का प्रयोग करना या कैमिकलयुक्त रंग का प्रयोग करना।

वात, पित्त और कफज विकारों के कारण होते हैं बाल सफेद (Vata, Pittaj and Kafaj Causes of Safed Baal or Gray Hair or Gray Hair)

आयुर्वेद में इसे ‘पालित्य’ कहा गया है जिसमें समय से पहले या ज्यादा उम्र में भी बाल सफेद हो जाते है। शरीर में तीन दोष होते हैं- वात, पित्त एवं कफ। इन्हीं की विकृति और असंतुलन से रोग होते हैं। पालित्य यानी सफेद बाल या हरिप्रभा (grey hairs) पित्त दोष के बढ़ने से होते हैं, या पित्त एवं वात दोनों दोषों के बढ़ने (baal kale karne ka tarika) से होते हैं।

यदि पालित्य 30 वर्ष की उम्र से पहले देखा जाता है तो इसे अकालपालित्य कहते है। यह पित्त की अधिक वृद्धि एवं उसके उष्ण गुण के कारण होता है। यदि बाल असमय या उम्र से पहले सफेद हो जायें तो उसे आयुर्वेदिक उपचार एवं उचित जीवनशैली द्वारा स्थायी तौर पर ठीक किया जा सकता है। इससे उम्र बढ़ने के साथ बाल जल्दी सफेद नहीं होंगे, लेकिन वृद्धावस्था में सफेद बालों को विभिन्न लेप एवं तेलों से काला किया जा सकता है। इस अवस्था में स्थायी तौर पर काला नहीं किया जा सकता।

आयुर्वेद के अनुसार, सफेद बाल को काला करने के लिए इन कारण पर ध्यान देना जरूरी है(Causes for Gray Hair in Ayurveda)

  • आहारज (Nutritional)
  • विहारज (Environmental & behaviour)
  • मानसिक (Psychological)
  • आदिबलप्रवृत्त (Unknown/Genetic)

आहारज (Nutritional)- खट्टा, तीखा, नमक तथा तीखा या गर्म आहार का अधिक सेवन करना। नमक का अधिक सेवन एक प्रमुख कारण है।

विहारज (Environmental & behaviour)- अधिक मेहनत करना तथा रात में जागना, धूप तथा धूल में अधिक रहना। अधिक उपवास करना।

मानसिक (Psychological)- क्रोध, शोक, भय तथा मानसिक तनाव से ग्रस्त रहना।

आदिबलप्रवृत्त (Unknown/Genetice)- यह अनुवांशिक कारण है। किसी के परिवार में असमय बाल सफेद होने की समस्या पीढ़ी दर पीढ़ी देखी जाती है।

बच्चों में सफेद बाल (Gray Hair or White Hair in Children)

जब melanocytes के द्वारा पर्याप्त मात्रा में मेलानिन का निर्माण नहीं हो पाता तब परिणामस्वरूप बाल सफेद होते हैं। इसी तरह जब बच्चों के शरीर में इस तत्व की कमी होने लगती है तो बच्चों के बाल सफेद हो जाते हैं।

बच्चोंं के बाल सफेद होने के कारण (Causes of White Hair in Children)

  • आनुवांशिक कारण- कुछ परिवारों में यह अनुवांशिक रूप में पाया जाता है।
  • किसी रोग के कारण जैसे neurofibromatosis, leukoderma, tuberous sclerosis आदि रोगों की वजह से मेलानिन नाम रंजक तत्व की कमी हो जाती है।
  • आहार में विटामिन B की कमी।
  • उन बच्चों में, जिनमें कोई सर्जरी हुई हो या उनकी पाचनक्रिया ठीक प्रकार से नहीं चल रही हो। ऐसे में उनमें विटामिन B का अवशोषण नहीं हो पाता तथा सफेद बालों की समस्या शुरू हो जाती है।
  • माता द्वारा गर्भावस्था के दौरान पोषकीय आहार न लेने पर भी बच्चों में सफेद बाल होने की संभावना रहती है।

आयुर्वेद से पा सकते हैं सफेद बालों का काला नेचुरल तरीका (Ayurvedic Remedy for Gray Hair or White Hair)

बालों का काला करने या बालों को झड़ने से रोकने के लिए निम्न आयुर्वेदिक उपाय (baal kale karne ka tarika) किए जा सकते हैंः-

सफेद बालों को काला की दवा के रूप में करें इन्द्रायण के बीजों का इस्तेमाल (Ayurvedic Remedy of Indrayan Seeds for Gray Hair Treatment in Hindi)

इन्द्रायण के बीजों के तैल से प्रतिदिन सिर पर मालिश और लेप करने से बालों का गिरना बंद हो जाता है एवं सफेद बाल से छुटकारा (baal kale karne ka tarika) मिल जाता है तथा बाल काले भौंरे के समान हो जाते है।

और पढेंसफेद बालों के लिए मंजिष्ठा के फायदे

आंवला, आम की गुठली है सफेद बाल को काला करने की दवा (Remedy of Gooseberry and Mango to Stop Gray Hair Problem in Hindi)

एक बहेड़ा, दो हरीतकी, तीन आँवला, पाँच आम की गुठली की मींगी और एक तोला लौह चूर्ण लेकर जल के साथ पीसकर एक लौहे के पात्र में रात भर रहने दें। सुबह इसका लेप बालों पर करने से बाल सफेद हो जाते है। इससे सफेद बालों से छुटकारा (baal kale karne ka tarika) मिलता है।

और पढ़ेंबालों के लिए गुंजा के फायदे

सफेद बाल को काला करने के लिए करें गन्ने के रस का इस्तेमाल (Sugarcane Juice Ayurvedic Remedy for Preventing White Hair or Gray Hair in Hindi)

लौह चूर्ण, भृंगराज, हरीतकी, बहेड़ा, आँवला और काली मिट्टी को गन्ने के रस में भिगोकर बर्तन का मुँह बन्द करके एक महीने तक धूप में रहने दें, बाद में निकाल कर छान लें। इसका नियमित रुप से लेप करने से सफेद बालों से छुटकारा (baal kale karne ka tarika) मिलता है और बाल काले हो जाते है।

और पढ़ेंबालों की समस्या के लिए छरीला के फायदे

बालों का काला करने या बालों को झड़ने से रोकने के घरेलु नुस्खे  (Home Remedy for Grey Hair or White Hair)

बालों का काला करने या बालों को झड़ने से रोकने के घरेलु नुस्खे ये हैंः-

बालों को काला करने के लिए करें तुलसी का प्रयोग (Tulsi : Home remedies for Grey hair in Hindi)

तुलसी का पत्र, आँवले का फल या पत्र स्वरस, भंगरैया का पत्र स्वरस इन तीनो द्रव्यों को समान मात्रा में लें और बालों में अच्छे से लगाएँ (baal kale karne ka tarika) इससे बाल काले और घने होते है।

सफेद बालों से छुटकारा के लिए करें नींबू का प्रयोग (Lemon :Home remedies for Grey hair in Hindi)

15मि.ली. नींबू का रस व 20 ग्राम आँवले के चूर्ण को 15 मि.ली. जल में मिलाकर लेप तैयार करें। इस लेप को सिर पर लगाएँ और एक घंटे बाद धो लें। कुछ बार करने से ही इसके प्रयोग से बाल काले हो जाते है।

सफेद बालों से छुटकारा के लिए करें लौंग और मेहंदी का उपयोग(Home Remedy of Cloves and mehandi for Gray Hair Treatment in Hindi)

लौंग और मेहंदी के पत्तों को सम भाग लेकर पानी के साथ पीसकर लगाने से बाल काले (baal kale karne ka tarika) हो जाते है।

आंवले का चूर्ण दिलाएगा सफेद बालों से छुटाकारा(Remedy of Gooseberry to Stop Gray Hair Problem in Hindi)

आँवले के चूर्ण को मेहंदी के साथ मिलाकर बालों पर लगाएँ। इससे बालों का सफेद होना और गिरना दोनों बंद हो जाते है।

नारियल तेल के इस्तेमाल से मिलता है सफेदे बालों से छुटकारा (Coconut Remedy to Reverse Gray Hair in Hindi)

नारियल तेल के अन्दर कढ़ी पत्ते को पकाएँ, जब वह तेल अच्छे से पक जाएँ और उस तेल का रंग थोड़ा बदल जाए तो कढ़ी पत्ते को अलग करके उस तेल से अपने बालों की मालिश करें। यह बालों को काला करने में लाभदायक (baal kale karne ka tarika) है।

सफेद बाल को काला करने की दवा है भृंगराज तेल (Bhringraj Oil : Home Remedy for Grey hair in Hindi)

बालों की मालिश के लिए भृंगराज तेल का इस्तेमाल करें। भृंगराज में बालों को काला (baal kale karne ka tarika) करने की क्षमता होती है।

सफेद बाल से छुटकारा पाने के लिए करें गुड़हल का इस्तेमाल (Home Remedy of Gudhal for White Hair Problem in Hindi)

आँवला, गुड़हल और तिल का पेस्ट बना लें, इसमें नारियल तेल की कुछ बूंदे मिलाकर स्कैल्प (baal kale karne ka tarika) पर मालिश करें।

और पढ़ें: बाल काले करने में गुड़हल के लाभ

सफेद बाल को काला करने की दवा है आम की पत्तियां (Remedy of Mango to Reverse Gray Hair in Hindi)

आम की पत्तियों को पीसकर पेस्ट बना लें और इस पेस्ट को बालों पर लगाकर 15-20 मिनट बाद पानी से धो लें। नियमित प्रयोग से बाल घने और काले हो जाएंगे।

और पढ़ेंबहेड़ा के फायदे बालों के लिए

सफेद बाल को काला करने की दवा है काले तिल (Sesame : Home Remedy for Grey Hair in Hindi)

काले तिल को दो घंटे के लिए पानी में भिगों दें। भीग जाने पर इसे पीसकर पेस्ट बना ले। इस पेस्ट को सिर की त्वचा और बालों पर एक घंटा लगा कर रखें (baal kale karne ka tarika) और उसके बाद किसी हर्बल शैम्पू से बालों को धोएं।

सफेद बाल को काला करने दवा के रूप में करें चाय के पानी का इस्तेमाल(Home Remedy of Tea Water to White Hair Problem in Hindi)

चाय के पानी को बालों में लगाकर एक घंटे बाद बिना शैम्पू का प्रयोग किए सादे पानी से धो लें। इसे नियमित रुप से प्रयोग करने पर बाल काले हो जाते है।

सफेद बाल को काला करने के लिए उचित आहार (Food to Prevent Gray Hair or White Hair)

  • पोषक तत्वों की कमी होना समय से पहले बाल सफेद होने का एक मुख्य कारण है इसलिए पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्वों से युक्त भोजन करें। इससे सफेद बालों से छुटकारा (baal kale karne ka tarika) पाने में आसानी होगी।
  • काले बालों को बनाए रखने के लिए विटामिन सी का बहुत महत्व है। अत आँवला और सभी Citrus फलों का नियमित रुप से सेवन करें। आँवला में मौजूद Antioxidants सफेद बालों की कोशिकाओं में नई जान डालते है, इससे बालों में मजबूती आती है और बाल काले होते है।
  • मिनरल्स जैसे आयरन, कॉपर, जिंक स्वस्थ बालों के लिए जिम्मेदार होते है अत भोजन में सूखे मेवों का भी सेवन करें। विशेषकर बादाम, किशमिश, अंजीर और पिस्ता इनसे मिलने वाले पोषक तत्व स्वस्थ बालों के लिए जरुरी है।
  • दूध और उनसे बने उत्पादों का सेवन करें। इन खाद्य पदार्थों में पर्याप्त मात्रा में विटामिन बी होता है जो स्वस्थ बालों के लिए बेहद जरूरी होता है और बालों की सफेदी की समस्या में लाभ (baal kale karne ka tarika) होगा।
  • कढ़ी पत्ते में विटामिन B1, B3, B9 और C होता है। इसके अलावा इसमें आयरन, कैल्शियम और फास्फोरस भी पाया जाता है। कढ़ी पत्ते के 10-15 पत्तों को अच्छे से धोकर पाँच मिनट तक उबालें। इसे छानकर इसमें आधे नींबू का रस और थोड़ी चीनी मिलाकर पिएँ।
  • कच्चा नारियल खाएँ, इसमें विटामिन बी कॉम्प्लेक्स, प्रोटीन और एंटीआक्सीडेंट्स पर्याप्त मात्रा में होते है। यह बालों को मजबूत और काला रखने में सहायक है।

और पढ़ेंबालों का रूखापन कम करने के घरेलू उपाय

सफेद बालों से छुकारा पाने के लिए जीवनशैली में लायें ये बदलाव (LifeStyle changes to Prevent Gray Hair or White Hair )

  • नियमित रुप से प्राणायाम एवं योगासन करें। ऐसा करने से तनाव के कारण होने वाले असमय सफेद बाल (baal kale karne ka tarika) नहीं होते।
  • प्रात कम से कम तीस मिनट खुली हवा में टहलें।
  • रात में जागने की आदत को छोड़कर समय पर सोने तथा उठने की आदत डालें।
  • अजीर्णं में भोजन न करें।
  • अत्यधिक धूप तथा धूल भरे वातावरण से बचाव करें।
  • जितना हो सके तनाव से खुद को बचाए और मेडिटेशन करें।

और पढ़ें: सफेद बाल में तिल का प्रयोग

आचार्य श्री बालकृष्ण

आचार्य बालकृष्ण, आयुर्वेदिक विशेषज्ञ और पतंजलि योगपीठ के संस्थापक स्तंभ हैं। चार्य बालकृष्ण जी एक प्रसिद्ध विद्वान और एक महान गुरु है, जिनके मार्गदर्शन और नेतृत्व में आयुर्वेदिक उपचार और अनुसंधान ने नए आयामों को छूआ है।

Share
Published by
आचार्य श्री बालकृष्ण

Recent Posts

गले की खराश और दर्द से राहत पाने के लिए आजमाएं ये आयुर्वेदिक घरेलू उपाय

मौसम बदलने पर अक्सर देखा जाता है कि कई लोगों के गले में खराश की समस्या हो जाती है. हालाँकि…

9 months ago

कोरोना से ठीक होने के बाद होने वाली समस्याएं और उनसे बचाव के उपाय

अभी भी पूरा विश्व कोरोना वायरस के संक्रमण से पूरी तरह उबर नहीं पाया है. कुछ महीनों के अंतराल पर…

10 months ago

डेंगू बुखार के लक्षण, कारण, घरेलू उपचार और परहेज (Home Remedies for Dengue Fever)

डेंगू एक गंभीर बीमारी है, जो एडीस एजिप्टी (Aedes egypti) नामक प्रजाति के मच्छरों से फैलता है। इसके कारण हर…

10 months ago

वायु प्रदूषण से होने वाली समस्याएं और इनसे बचने के घरेलू उपाय

वायु प्रदूषण का स्तर दिनोंदिन बढ़ता ही जा रहा है और सर्दियों के मौसम में इसका प्रभाव हमें साफ़ महसूस…

11 months ago

Todari: तोदरी के हैं ढेर सारे फायदे- Acharya Balkrishan Ji (Patanjali)

तोदरी का परिचय (Introduction of Todari) आयुर्वेद में तोदरी का इस्तेमाल बहुत तरह के औषधी बनाने के लिए किया जाता…

2 years ago

Pudina : पुदीना के फायदे, उपयोग और औषधीय गुण | Benefits of Pudina

पुदीना का परिचय (Introduction of Pudina) पुदीना (Pudina) सबसे ज्यादा अपने अनोखे स्वाद के लिए ही जाना जाता है। पुदीने…

2 years ago