Categories: जड़ी बूटी

Black Cardamom: बहुत गुणकारी है बड़ी इलाइची – Acharya Balkrishan Ji (Patanjali)

Contents

बड़ी इलायची का परिचय (Introduction of Badi Elaichi)

बड़ी इलायची (Badi Elaichi) के फल, सुगंध और काले रंग के बीजों से भला कौन अपरिचित हो सकता है। भारतीय रसोई में यह इस तरह से रची बसी है कि इसका प्रयोग मसालों से लेकर मिठाइयों तक में किया जाता है। इसके बीजों का प्रयोग मसालों के रूप में किया जाता है। आमतौर पर लोग केवल इतना ही जानते हैं कि बड़ी इलायची का इस्तेमाल मसाले में होता है और बड़ी इलायची का सेवन व्यंजन को स्वादिष्ट बनाता है, लेकिन सच यह है कि बड़ी इलायची का औषधीय प्रयोग भी किया जाता है।

आुयर्वेद के अनुसार, बड़ी इलायची पित्त शांत करने वाली, नींद लाने वाली, भोजन में रूचि पैदा करने काम करती है। यह हृदय एवं लीवर को स्वस्थ बनाती है। बड़ी इलायची भूख बढ़ाती है, भोजन को पचाती है, मुँह के बदबू को दूर करती है। यह पेट की गैस को खत्म करती है, उल्टी बंद करती है, घावों को भरती है। इसके प्रयोग से पेशाब खुल कर आता है, बुखार उतर जाता है।

और पढ़ेंघाव सुखाने में पारिजात के फायदे

बड़ी इलायची क्या है (What is Badi Elaichi?)

इसकी एक प्रजाति मोरंग इलायची भी होती है। बड़ी इलायची की मुख्य प्रजाति के अतिरिक्त एक और प्रजाति पाई जाती है जिसका प्रयोग चिकित्सा के लिए किया जाता है –

  1. Amomum subulatum (बड़ी इलायची)
  2. Amomum aromaticum Roxb. (एलाकर्पूर)

अनेक भाषाओं में बड़ी इलायची के नाम (Badi Elaichi Called in Different Languages)

बड़ी इलायची का लैटिन नाम एमोमम् सुब्युलेटम (Syn-Cardamomum subulatum (Roxb.) Kuntz.,   Amomum subulatum Roxb.) है। यह जिंजिबेरेसी (Zingiberaceae) कुल का है। इसके देश और विदेश में अन्य ये नाम भी हैंः-

Badi Elaichi in –

  • English (Badi Elaichi In English) – इण्डियन कार्डेमम (Indian cardamom), ब्लैक कार्डेमम (Black cardamom), बेंगाल कार्डेमम (Bengal cardamom), Nepal or Greater cardamom (नेपाल अथवा ग्रेटर कार्डेमम)
  • Tamil (Black Cardamom In Tamil) – पेरेलम (Perelam), पेरियायेलम (Periyayelam)
  • Hindi (Black Cardamom In Hindi) – बड़ी इलायची, पूर्वी इलायची, लाल इलायची
  • Sanskrit – स्थूला, बहुला, पृथ्वीका, त्रिपुटा, भद्रैला, बृहदेला, चन्द्रबाला, दिव्यगंधा, निष्कुटि, स्थूलैला
  • Urdu – इलायची कलान (Ilayachi kallan)
  • Oriya – बड़ा एलका (Bada elaka)
  • Kannada – डोड्डाऐलक्की (Doddayelaki)
  • Gujarati – एलचा (Elcha), मोटी इलायची (Moti elachi), एलचो (Elcho)
  • Telugu – पेडडायेलाकी (Peddayelaki), अडावी एलक्के (Adavi elakkay)
  • Bengali – बड़ो एलाची (Baro elachi)
  • Nepali – अलैचि (Alaichi)
  • Marathi – मोटे वेलदोड़े (Moteveldode)
  • Malayalam – पेरेलम (Perelam), पेरिया एलाट्टारी (Periya-elattari)
  • Arabic – क्याक्यीहाहेकीबार (Qaqihahekibar), हेलजाकर (Helzakar)
  • Persian – हेलकलान (Hailkallan), क्याकील्हे-कलान (Qakilahe-kalan)

बड़ी इलायची के फायदे (Badi Elaichi Benefits and Uses)

बड़ी इलायची के औषधीय प्रयोग, प्रयोग के तरीके और विधियां ये हैंः-

सिरदर्द से राहत दिलाती है बड़ी इलायची (Benefits of Badi Elaichi for Headache

Relief in Hindi)

बड़ी इलायची (Black Cardamom) को पीसकर ललाट पर लेप करने से एवं बीजों को पीसकर सूंघने से सिरदर्द ठीक होता है।

बड़ी इलायची के प्रयोग से मुँह के छाले का इलाज (Badi Elaichi Benefits to Cure Mouth Ulcers in Hindi)

बड़ी इलायची को पीसकर शहद में मिलाकर मुँह के छालों पर लगाने से मुंह के छाले ठीक होते हैं।

और पढ़े: मुँह के छालों में आलू के फायदे

दांत दर्द में फायदेमंद बड़ी इलायची का सेवन (Uses of Badi Elaichi in Dental Pain in Hindi)

बड़ी इलायची और लौंग तेल को बराबर-बराबर मात्रा में लेें। इसे दांतों पर मलने से दांत का दर्द ठीक होता है।

4-5 बड़ी इलायची के फल को 400 मिली पानी में उबाल लें। इस काढ़ा से कुल्ला करने से दांत दर्द ठीक होता है।

2-3 बड़ी इलायची के छिलकों को पीसकर खाने से दांत की बीमारियों तथा मुँह के सूजन में लाभ होता है।

बीज के काढ़े का कुल्ला एवं गरारा करने से दांत और मसूड़ों की तकलीफ ठीक होती है।

और पढ़ें: दांतों के दर्द में सुपारी के लाभ

मुंह के रोग में बड़ी इलायची से लाभ (Badi Elaichi Uses in Cure Oral Disease in Hindi)

यदि मुँह में अधिक थूक आता हो या लार बहती हो तो बड़ी इलायची और सुपारी को बराबर-बराबर पीसकर मिला लें। इसे 1-2 ग्राम मात्रा में लेकर चूसते रहने से थूक कम बनता है और लार का बहना बंद हो जाता है।

सांसों की बीमारी में बड़ी इलायची से फायदा (Badi Elaichi Treats Respiratory Problems in Hindi)

5-10 बूंद बड़ी इलायची तेल (Black Cardamom Oil) में मिश्री मिलाकर नियमित सेवन करने से सांसों के रोग में लाभ होता है।

और पढ़ें सांसों की बीमारी में मंडुआ के फायदे

हिचकी को बंद करने के लिए करें बड़ी इलायची का सेवन  (Badi Elaichi is Beneficial in Hiccup in Hindi)

एक कप पानी में दो बड़ी इलायची पीसकर उबालें। आधा बच जाने पर छानकर ठंडा होने दें। इसे पिलाने से हिचकी में तुरंत लाभ होता है।

और पढ़ें हिचकी के लिए घरेलू नुस्खे

पाचनशक्ति बढ़ाने के लिए बड़ी इलायची का सेवन फायदेमंद (Black Cardamom Helps in Indigestion Problem in Hindi)

दो ग्राम सौंफ के साथ बड़ी इलायची के 8-10 बीजों का सेवन करने से पाचन-शक्ति बढ़ती है।

अधिक केले खाने पर यदि अजीर्ण हो जाए तो 1-2 बड़ी इलायची खाने से पाचन ठीक हो जाता है।

बड़ी इलायची बीज के चूर्ण और सोंठ के चूर्ण को समान मात्रा में मिला लें। इसे 5 ग्राम मात्रा में सेवन करने से पाचन शक्ति बढ़ती है।

एक ग्राम बड़ी इलायची बीज चूर्ण में 4 ग्राम मिश्री मिलाकर 1 ग्राम सुबह और शाम सेवन करने से गर्भवती स्त्री को भूख ना लगने की परेशानी में लाभ होता है।

और पढ़ें: पाचन शक्ति बढ़ने में धनिया के फायदे

बड़ी इलायची के इस्तेमाल से पेट के रोग का इलाज (Badi Elaichi Benefits in Cure Abdominal Disease in Hindi)

बड़ी इलायची के 5 ग्राम बीज चूर्ण को काले नमक के साथ सेवन करने से पेट दर्द और पेट की गैस में लाभ होता है।

0.5-1 ग्राम बड़ी एला चूर्ण को 15-25 मिली कांजी के सेवन करने से पेशाब बंद होने से होने वाले गैस में लाभ होता है।

5 ग्राम बड़ी इलायची चूर्ण को शहद के साथ मिलाकर खाने से पेट दर्द में लाभ होता है।

1-2 बड़ी इलायची के चूर्ण को दिन में तीन बार नियमित सेवन करने से पेट के दर्द में आराम होता है।

उल्टी को रोकने के लिए करें बड़ी इलायची का प्रयोग (Badi Elaichi Help to Stop Vomiting in Hindi)

बड़ी इलायची और पुदीना को बराबर-बराबर मिला लें। इसे 2-3 लीटर पानी में उबालकर थोड़ा-थोड़ा सेवन करने से उल्टी बंद होती है। (और पढ़े: पुदीना के औषधीय गुण)

5 ग्राम बड़ी इलायची के बीज चूर्ण का सेवन करने से उल्टी रुकती है।

बड़ी इलायची के उपयोग से पेचिश का उपचार (Badi Elaichi is Beneficial in Dysentry in Hindi)

एक ग्राम बड़ी इलायची बीज चूर्ण (Black Cardamom Powder) को 10 ग्राम बेलगिरी के साथ मिलाकर सुबह और शाम सेवन करने से पेचिश में लाभ होता है।

और पढ़ेंपेचिश में छोटी इलायची फायदेमंद

हैजा में लाभदायक बड़ी इलायची (Badi Elaichi Benefits in Cholera Treatment in Hindi)

5-10 बूंद बड़ी इलायची के अर्क का सेवन करने से हैजा और पेचिश में लाभ होता है।

लीवर विकार में बड़ी इलायची के सेवन से फायदा (Uses of Badi Elaichi for Liver Disorder in Hindi)

पिसी हुई राई के साथ बड़ी इलायची चूर्ण मिला लें। इसे 2-3 ग्राम की मात्रा में नियमित सेवन करने से लीवर की समस्या में लाभ होता है।

1-2 ग्राम बड़ी इलायची चूर्ण का नियमित सेवन करने से लीवर विकार ठीक होते हैं।

मूत्र रोग में फायदेमंद बड़ी इलायची (Badi Elaichi Uses in Cure Urinary Problem in Hindi)

बड़ी इलायची के बीज के चूर्ण में समान भाग मिश्री मिला लें। इसे 2-3 ग्राम की मात्रा में रोज सुबह और शाम सेवन करने से पेशाब खुल कर आने लगता है।

10 नग छिलकों सहित बड़ी इलायची को लेकर मोटा-मोटा कूट कर 250 मि.ली. दूध और 250 मि.ली. जल के साथ पकाएं। आधा बचने पर छानकर उसमें थोड़ी मिश्री मिलाकर दिन में चार बार पिलाएं। इससे पेशाब की जलन व पेशाब ना आने की समस्या दूर होती है।

और पढ़े: मूत्र की समस्या के घरेलू इलाज

पथरी का इलाज बड़ी इलायची (Benefits of Badi Elaichi in kidney Stone Problem in Hindi)

बड़ी इलायची के बीज के चूर्ण में खरबूजों के बीज का मगज और मिश्री मिला लें। इसे 2-3 ग्राम की मात्रा में सेवन करने से पथरी टूट-टूट कर निकल जाती है।

और पढ़ेकिडनी विकार में खरबूजे से फायदा

बड़ी इलायची से नपुंसकता का इलाज (Benefits of Badi Elaichi in Impotence Problem in Hindi)

बड़ी इलायची के बीज के चूर्ण, सफेद मूसली और मिश्री को मिलाकर 2-3 ग्राम की मात्रा में नियमित सुबह और शाम सेवन करने से नपुंसकता में लाभ होता है।

बड़ी इलायची के सेवन से स्वप्नदोष का उपचार (Uses of Badi Elaichi for Night Fall in Hindi)

आँवले के 20 मि.ली. रस में एक ग्राम बड़ी इलायची के दाने और इसबगोल बराबर मात्रा में मिला लें। इसे 1-1 चम्मच सुबह-शाम सेवन करें। इसे स्वप्नदोष में लाभ होता है।

कुष्ठ रोग के इलाज के लिए बड़ी इलायची का इस्तेमाल लाभदायक (Badi Elaichi in Leprosy Treatment in Hindi)

बड़ी इलायची, चित्रक मूल, कुंदरू, अडूसा की पत्ती, निशोथ, मदार की पत्ती लें। इनमें सोंठ मिलाकर सभी का चूर्ण बना लें और इसके साथ पलाश क्षार को गोमूत्र में घोल लें। आठ दिनों तक पलाश क्षार भिगो कर छाया में सुखाते रहें।

सभी का लेप बना लें। इस लेप को शरीर पर लगाकर तब तक धूप में बैठें, जब तक यह सूख न जाए। सूखने के बाद स्नान कर लें। इससे कुष्ठ रोग में लाभ होता है।

बड़ी इलायची, जायफल तथा नीले थोथे के चूर्ण को गाय के घी में पीसकर लेप लगाने से त्वचा का फोड़ा ठीक होता है।

और पढ़ेंत्वचा रोग में लोहबान के फायदे

बुखार उतारने के लिए करें बड़ी इलायची का सेवन (Badi Elaichi is Beneficial in Fighting with Fever in Hindi)

बड़ी इलायची के बीज 2 भाग तथा बेल के जड़ की छाल एक भाग को मिलाकर मोटा-मोटा कूटकर चूर्ण बना लें। एक चम्मच चूर्ण को एक कप दूध और पानी में मिलाकर पकाएं। केवल दूध बच जाने पर 20 मि.ली. की मात्रा में सुबह, दोपहर तथा शाम सेवन करने से बुखार ठीक होता है।

और पढ़ेंबुखार में मोथा से लाभ

बड़ी इलायची के सेवन की मात्रा (How Much  to Consume Badi Elaichi?)

चूर्ण – 1-3 ग्राम

बड़ी इलायची के सेवन का तरीका (How to Use Badi Elaichi?)

औषधि के रूप में प्रयोग करने के लिए बड़ी इलायची का इस्तेमाल चिकित्सक के परामर्शानुसार करें।

बड़ी इलायची कहां पायी या उगाई जाती है (Where is Badi Elaichi Found or Grown?)

यह पूर्वी हिमालय प्रदेश विशेषतः नेपाल, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, असम आदि में पायी जाती है।

और पढ़ेहिचकी में कुटकी से फायदा

आचार्य श्री बालकृष्ण

आचार्य बालकृष्ण, आयुर्वेदिक विशेषज्ञ और पतंजलि योगपीठ के संस्थापक स्तंभ हैं। चार्य बालकृष्ण जी एक प्रसिद्ध विद्वान और एक महान गुरु है, जिनके मार्गदर्शन और नेतृत्व में आयुर्वेदिक उपचार और अनुसंधान ने नए आयामों को छूआ है।

Share
Published by
आचार्य श्री बालकृष्ण

Recent Posts

गले की खराश और दर्द से राहत पाने के लिए आजमाएं ये आयुर्वेदिक घरेलू उपाय

मौसम बदलने पर अक्सर देखा जाता है कि कई लोगों के गले में खराश की समस्या हो जाती है. हालाँकि…

8 months ago

कोरोना से ठीक होने के बाद होने वाली समस्याएं और उनसे बचाव के उपाय

अभी भी पूरा विश्व कोरोना वायरस के संक्रमण से पूरी तरह उबर नहीं पाया है. कुछ महीनों के अंतराल पर…

8 months ago

डेंगू बुखार के लक्षण, कारण, घरेलू उपचार और परहेज (Home Remedies for Dengue Fever)

डेंगू एक गंभीर बीमारी है, जो एडीस एजिप्टी (Aedes egypti) नामक प्रजाति के मच्छरों से फैलता है। इसके कारण हर…

9 months ago

वायु प्रदूषण से होने वाली समस्याएं और इनसे बचने के घरेलू उपाय

वायु प्रदूषण का स्तर दिनोंदिन बढ़ता ही जा रहा है और सर्दियों के मौसम में इसका प्रभाव हमें साफ़ महसूस…

9 months ago

Todari: तोदरी के हैं ढेर सारे फायदे- Acharya Balkrishan Ji (Patanjali)

तोदरी का परिचय (Introduction of Todari) आयुर्वेद में तोदरी का इस्तेमाल बहुत तरह के औषधी बनाने के लिए किया जाता…

2 years ago

Pudina : पुदीना के फायदे, उपयोग और औषधीय गुण | Benefits of Pudina

पुदीना का परिचय (Introduction of Pudina) पुदीना (Pudina) सबसे ज्यादा अपने अनोखे स्वाद के लिए ही जाना जाता है। पुदीने…

2 years ago