रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन

डॉक्टर की पर्ची ज़रूरी है
साल्ट के अन्य नाम
एपोएटिन अल्फा
स्टोरेज के निर्देश
रेफ्रिजरेटर (2 - 8डिग्री सेल्सियस) में स्टोर करें. फ्रीज़ न करें.

Product introduction

रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन एक दवा है जो आपकी बोन मैरो को अधिक लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में मदद करती है. इसका इस्तेमाल किडनी रोग के कारण होने वाले एनीमिया के एक प्रकार के इलाज के लिए किया जाता है. इसका इस्तेमाल कैंसर कीमोथेरेपी और एच.आई.वी. के इलाज की दवाएं लेने के कारण होने वाले एनीमिया के इलाज के लिए भी किया जाता है.

रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शनको त्वचा के नीचे या नस में इंजेक्शन द्वारा दिया जाता है और इसका निर्णय आपके डॉक्टर द्वारा लिया जाएगा. आमतौर पर, इन्जेक्शन नर्स या डॉक्टर द्वारा लगाए जाते हैं. खुराक आपके शरीर के वजन और आपके एनीमिया के कारण पर निर्भर करती है... दोनों ही, इलाज से पहले या इलाज के बाद, आयरन सप्लीमेंट्स इस इलाज को और भी असरदार बना सकते हैं. रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन का भंडारण फ्रिज में किया जाना चाहिए लेकिन इसका उपयोग कमरे के तापमान पर किया जाना चाहिए.

इस दवा को लेने के सबसे सामान्य साइड इफेक्ट में मिचली आना , उल्टी, बुखार, और ब्लड प्रेशर बढ़ना शामिल हैं.. इससे सिरदर्द, थकान, चक्कर आने और दर्द जैसे फ्लू जैसे लक्षण भी हो सकते हैं.. इलाज की शुरुआत में इस प्रकार के साइड इफेक्ट होना एक सामान्य बात है, लेकिन अगर वे बने रहें तो आपका डॉक्टर उन्हें रोकने या कम करने के तरीकों का सुझाव दे सकता है.. अगर आपको कोई गंभीर साइड इफेक्ट, जैसे दौरे (फिट) होते है तो अपने डॉक्टर को तुरंत बताएं. कभी-कभी इस दवा के कारण गंभीर ब्लड क्लॉट हो सकते हैं जिन्हें मेडिकल अटेंशन की ज़रूरत होती है.

यदि आप अनियंत्रित हाई ब्लड प्रेशर , हृदय रोग या गाउट (जोड़ों में दर्द की बीमारी) से ग्रसित हैं तो रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन का उपयोग करने से पहले आपको अपने डॉक्टर को इस बारे में बताना चाहिए. अगर कोई दवा इस इलाज को प्रभावित करती है, तो आपको अपने डॉक्टर को उन अन्य सभी दवाओं के बारे में भी बताना चाहिए जिन्हें आप ले रहे हैं.. इस इलाज के दौरान आपके या आपके डॉक्टर द्वारा आपके ब्लड प्रेशर की बार-बार जांच की जानी चाहिए.. यह सुनिश्चित करने के लिए कि आप पर इस दवा का कोई हानिकारक प्रभाव तो नहीं पड़ रहा है, आपको अन्य नियमित मेडिकल टेस्ट कराने की भी आवश्यकता हो सकती है. यह पता नहीं है कि यह दवा एक अजन्मे बच्चे को नुकसान पहुंचाएगी या नहीं. अगर आप गर्भवती हैं, गर्भधारण की योजना बना रही हैं या स्तनपान कराती हैं तो अपने डॉक्टर को बताएं.

रेपोइटिन इन्जेक्शन के लाभ

क्रोनिक किडनी रोग से होने वाला एनीमिया के इलाज में

रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन एक मानव निर्मित प्रोटीन है जो आपकी बोन मैरो को अधिक लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में मदद करता है. इसका इस्तेमाल वयस्कों और बच्चों में किडनी रोग के कारण होने वाला एनीमिया का इलाज करने के लिए किया जाता है जो डायलिसिस पर हैं. एनीमिया एक ऐसी स्थिति है जिसमें ऑक्सीजन ले जाने के लिए आपके शरीर के पास पर्याप्त लाल रक्त कोशिकाएं नहीं होती हैं. यह दवा एनीमिया के कारण होने वाली कमजोरी और थकान को कम करने में मदद करती है. इन्जेक्शन, डायलिसिस के इलाज के बाद आमतौर पर डॉक्टर द्वारा लगाया जाता है.

कीमोथेरेपी के कारण होने वाला एनीमिया के इलाज में

एनीमिया एक ऐसी स्थिति है जिसमें ऑक्सीजन ले जाने के लिए आपके शरीर के पास पर्याप्त लाल रक्त कोशिकाएं नहीं होती हैं. रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन एक मानव निर्मित प्रोटीन है जो बोन मैरो (हड्डियों के अंदर पाया जाने वाला सॉफ्ट टिश्यू) को लाल रक्त कोशिकाओं का अधिक उत्पादन करने के लिए उत्तेजित करके काम करता है. जब आप किसी प्रकार के कैंसर के इलाज के लिए कीमोथेरेपी ले रहे होते हैं, तो इस प्रोटीन का नेचुरल ह्यूमन फॉर्म घट सकता है.. दवा का इन्जेक्शन ब्लड ट्रांसफ्यूजन (खून चढ़ाने) की आवश्यकता को कम कर सकता है. इलाज को अधिक प्रभावी बनाने के लिए आपको आयरन सप्लीमेंट भी दिए जा सकते हैं.

रेपोइटिन इन्जेक्शन के साइड इफेक्ट

इस दवा से होने वाले अधिकांश साइड इफेक्ट में डॉक्टर की सलाह लेने की ज़रूरत नहीं पड़ती है और नियमित रूप से दवा का सेवन करने से साइट इफेक्ट अपने आप समाप्त हो जाते हैं. अगर साइड इफ़ेक्ट बने रहते हैं या लक्षण बिगड़ने लगते हैं तो अपने डॉक्टर से सलाह लें

रेपोइटिन के सामान्य साइड इफेक्ट

  • हाई ब्लड प्रेशर
  • मिचली आना
  • उल्टी
  • बुखार
  • रैश
  • जोड़ों का दर्द
  • सिर दर्द
  • अनिद्रा (नींद में कठिनाई)
  • ठंड लगना
  • खांसी
  • हड्डी में दर्द
  • मांसपेशी में ऐंठन
  • चक्कर आना
  • Vascular occlusion
  • इंजेक्शन वाली जगह पर जलन
  • स्टोमेटाइटिस (मुंह की सूजन)
  • वजन घटना
  • सफेद रक्त कोशिकाओं (वाइट ब्लड सेल्स) की संख्या में कमी
  • खून में ग्लूकोज लेवल बढ़ जाना
  • रक्त वाहिकाओं में खून के थक्के बनना

रेपोइटिन इन्जेक्शन का इस्तेमाल कैसे करें

आपका डॉक्टर या नर्स आपको यह दवा देगा. कृपया स्वयं उपयोग ना करें.

रेपोइटिन इन्जेक्शन किस प्रकार काम करता है

रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन एरिथ्रोपोएसिस-स्टिमूलेटिंग एजेन्ट (इएसए) होता है. यह अधिक लाल रक्त कोशिकाओं का उत्पादन करने के लिए बोन मैरो (हड्डियों के अंदर सॉफ्ट ऊतकों) को उत्तेजित करके काम करता है.

सुरक्षा संबंधी सलाह

अल्कोहल
डॉक्टर की सलाह लें
यह मालूम नहीं है कि रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन के साथ एल्‍कोहल का सेवन करना सुरक्षित है या नहीं. कृपया अपने डॉक्टर से सलाह लें.
गर्भावस्था
डॉक्टर की सलाह लें
गर्भावस्था के दौरान रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन का इस्तेमाल करना असुरक्षित हो सकता है.. हालांकि, इंसानों से जुड़े शोध सीमित हैं लेकिन जानवरों पर किए शोधों से पता चलता है कि ये विकसित हो रहे शिशु पर हानिकारक प्रभाव डालता है. आपके डॉक्टर पहले इससे होने वाले लाभ और संभावित जोखिमों की तुलना करेंगें और उसके बाद ही इसे लेने की सलाह देंगें. कृपया अपने डॉक्टर से सलाह लें.
स्तनपान
डॉक्टर की सलाह पर सुरक्षित
स्तनपान के दौरान रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन का इस्तेमाल संभवतः सुरक्षित है. मानव पर किए गए सीमित शोध से यह पता चलता है कि दवा से बच्चे को कोई गंभीर जोखिम नहीं पहुंचता है.
ड्राइविंग
असुरक्षित
रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन के इस्तेमाल से ऐसे साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं जिससे आपकी गाड़ी चलाने की क्षमता प्रभावित हो सकती है.
किडनी
डॉक्टर की सलाह पर सुरक्षित
किडनी के मरीजों के लिए रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन का इस्तेमाल पूरी तरह सुरक्षित है. रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन की खुराक को कम या ज्यादा ना करें.
इस दवा को लेते समय किडनी फंक्शन टेस्ट की नियमित निगरानी की सलाह दी जाती है.
लिवर
सावधान
लिवर की बीमारियों से पीड़ित मरीजों में रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन का इस्तेमाल सावधानी से किया जाना चाहिए. रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन की खुराक में बदलाव की आवश्यकता हो सकती है. कृपया अपने डॉक्टर से सलाह लें.

अगर आप रेपोइटिन इन्जेक्शन लेना भूल जाएं तो?

अगर आप रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन की कोई खुराक लेना भूल गए हैं, तो कृपया अपने डॉक्टर से परामर्श करें.

सभी विकल्प

यह जानकारी सिर्फ सूचना के उद्देश्य से है. कृपया कोई भी दवा लेने से पहले डॉक्टर से परामर्श लें.
रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन
₹338/Injection
एरीट्रस्ट 2000IU इन्जेक्शन
नियोन लैबोरेटरीज लिमिटेड
₹250/injection
32% cheaper
आरपीओ 2000IU इन्जेक्शन
आरपीजी लाइफ साइंसेज़ लिमिटेड
₹298.61/injection
19% cheaper
सैरिटोन ईपीओ 2000IU इन्जेक्शन
सन फार्मास्युटिकल इंडस्ट्रीज़ लिमिटेड
₹487.17/injection
33% costlier
₹562.5/injection
53% costlier
एन्फोए 2000iu इन्जेक्शन
ला रेनॉन हेल्थकेयर प्राइवेट लिमिटेड
₹590/injection
61% costlier

ख़ास टिप्स

  • रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन एनीमिया के इलाज में मदद करता है जो क्रॉनिक किडनी रोग या कैंसर कीमोथेरेपी के कारण हो सकता है.
  • इसे आपकी त्वचा के अंदर एक इन्जेक्शन के रूप में दिया जाता है.
  • आपके खून में हीमोग्लोबिन, ब्लड सेल और इलेक्ट्रोलाइट जैसे कि पोटेशियम की निगरानी करने के लिए आपका डॉक्टर नियमित रूप से ब्लड टेस्ट करवा सकता है.
  • इस दवा को लेने के दौरान अपने ब्लड प्रेशर की नियमित रूप से निगरानी करें.. Inform your doctor if you notice symptoms of very high blood pressure such as severe headache, problems with your eyesight, nausea, vomiting or fits (seizures).
  • अगर सांस की गति में कमी या छोटी-छोटी सांस ले रहे हैं या त्वचा पर रैशेज़ निकल रही है तो रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन लेना बंद कर दें और डॉक्टर को सूचित करें.

फैक्ट बॉक्स

रासायनिक वर्ग
Amino Acids, Peptides Analogues
लत लगने की संभावना
नहीं
चिकित्सीय वर्ग
BLOOD RELATED
एक्शन क्लास
Erythropoiesis-stimulating agent (ESA)

अन्य दवाओं के साथ दुष्प्रभाव

रेपोइटिन को निम्नलिखित में से किसी भी दवा के साथ लेने पर उनमें से किसी का प्रभाव बदल सकता है और इससे कुछ अनचाहे साइड इफेक्ट हो सकते हैं
Brand(s): Apriace, Benzil
Moderate
Brand(s): Candesar, Candestan, Kandisar
Moderate
Brand(s): Capotril, Aceten, Angiopril
Moderate
Moderate

यूजर का फीडबैक


अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्र. रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन को कैसे स्टोर किया जाना चाहिए?

अस्पताल में, प्री-फिल्ड सिरिंज 2 से 8 °C के बीच रेफ्रिजरेटर में स्टोर नहीं किए जाते हैं. अगर आप इस दवा का उपयोग घर पर कर रहे हैं, तो यह महत्वपूर्ण है कि पहले से भरा हुआ सिरिंज आपके रेफ्रिजरेटर में स्टोर किया जाता है. इसे फ्रीज़र में स्टोर न करें. प्री-फिल्ड सिरिंज को इसका उपयोग करने से पहले कमरे के तापमान तक पहुंचने की अनुमति दें. इसमें आमतौर पर 15 से 30 मिनट लगते हैं. पहले से भरी हुई रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन सिरिंज जिनका उपयोग किया जा रहा है या किया जाने वाला है, रूम टेम्परेचर (25°C से ऊपर नहीं) पर अधिकतम 7 दिनों की एकल अवधि के लिए रखा जा सकता है.. इन प्री-फिल्ड सिरिंज को बच्चों से दूर रखें और प्रकाश से सुरक्षित रखें.

प्र. अगर आप बहुत ज्यादा रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन का इस्तेमाल करते हैं, तो क्या करना चाहिए?

अगर आपको लगता है कि रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन बहुत ज्यादा इंजेक्ट किया गया है, तो डॉक्टर या नर्स को तुरंत बताएं.

क्यू. रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन का इस्तेमाल कब नहीं किया जाना चाहिए?

यदि विलयन क्लाउडी हो चुका है या आपको इसमें तैरते हुए कण दिखाई दे रहे हैं या फिर दवा की तिथि समाप्त हो गई है तो रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए. लेबल की समाप्ति तिथि देखें. अगर आपको पता है या लगता है कि यह दुर्घटनावश फ्रोज़न हो चुका है या रेफ्रिजरेटर विफल रहा हो तो आपको इस दवा का उपयोग नहीं करना चाहिए.

प्र. क्या रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन का इस्तेमाल बच्चों में किया जा सकता है?

हां, रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन का इस्तेमाल 1 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों में किडनी की क्रॉनिक बीमारी के कारण होने वाले एनीमिया के इलाज के लिए किया जाता है. बच्चों में, रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन की प्रभावशीलता और साइड इफेक्ट्स वयस्कों के समान देखी गई है.

प्र. क्या रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन ब्लड प्रेशर को प्रभावित कर सकता है?

हां, रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन ब्लड प्रेशर को प्रभावित कर सकता है. रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन से शुरुआती थेरेपी के दौरान, ब्लड प्रेशर पर नजर रखनी चाहिए और जिन्हें हाई ब्लड प्रेशर है, उन्हें ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने के लिए उचित उपाय करने चाहिए. अगर ब्लड प्रेशर अनियंत्रित रहता है तो आपका डॉक्टर रेपोइटिन 2000 इन्जेक्शन रोक सकता है.

जानकारी साझा करना चाहते हैं?

Disclaimer:

टाटा 1mg's का एकमात्र उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि उसके उपभोक्ताओं को एक्सपर्ट द्वारा जांच की गई, सटीक और भरोसेमंद जानकारी मिले. यहां उपलब्ध जानकारी को चिकित्सकीय परामर्श के विकल्प के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए. यहां दिए गए विवरण सिर्फ़ आपकी जानकारी के लिए हैं. यह संभव है कि इसमें स्वास्थ्य संबधी किसी विशेष समस्या, लैब टेस्ट, दवाओं और उनके सभी संभावित दुष्प्रभावों, पारस्परिक प्रभाव और उनसे जुड़ी सावधानियां एवं चेतावनियों के बारे में सारी जानकारी सम्मिलित ना हो। किसी भी दवा या बीमारी से जुड़े अपने सभी सवालों के लिए डॉक्टर से संपर्क करें. हमारा उद्देश्य डॉक्टर और मरीज के बीच के संबंध को मजबूत बनाना है, उसका विकल्प बनना नहीं.

रिफरेंस

  1. Kaushansky K, Kipps TJ. Hematopoietic Agents: Growth Factors, Minerals, and Vitamins. In: Brunton LL, Chabner BA, Knollmann BC, editors. Goodman & Gilman’s: The Pharmacological Basis of Therapeutics. 12th ed. New York, New York: McGraw-Hill Medical; 2011. pp. 1071-72.External Link
  2. Briggs GG, Freeman RK, editors. A Reference Guide to Fetal and Neonatal Risk: Drugs in Pregnancy and Lactation. 10th ed. Philadelphia, PA: Wolters Kluwer Health; 2015. pp. 479-81.External Link
  3. ScienceDirect. Recombinant Human Erythropoietin Alfa/Epoetin Alfa. [Accessed 07 Apr. 2019] (online) Available from:External Link
  4. Recombinant Human Erythropoietin Alfa/Epoetin Alfa. Leiden, Netherlands: Janssen Biologics B.V; [revised Oct. 2018]. [Accessed 07 Apr. 2019] (online) Available from:External Link
  5. Recombinant Human Erythropoietin Alfa/Epoetin Alfa. Amgen Inc; 1989 [revised Dec. 2013]. [Accessed 07 Apr. 2019] (online) Available from:External Link

निर्माता/मार्केटर का एड्रेस

212/2, हडपसर, ऑफ सोलि पूनावाला रोड, पुणे 411028 इंडिया
मूल देश: भारत
338
सभी कर शामिल
MRP366.88  8% OFF
1 शीशी में 1 मिली
बिक चुके हैं
मुझे सूचित करें

INDIA’S LARGEST HEALTHCARE PLATFORM

260m+
Visitors
31m+
Orders Delivered
1800+
Cities
Get the link to download App
Reliable

All products displayed on Tata 1mg are procured from verified and licensed pharmacies. All labs listed on the platform are accredited

Secure

Tata 1mg uses Secure Sockets Layer (SSL) 128-bit encryption and is Payment Card Industry Data Security Standard (PCI DSS) compliant

Affordable

Find affordable medicine substitutes, save up to 50% on health products, up to 80% off on lab tests and free doctor consultations.

LegitScript approved
India's only LegitScript and ISO/ IEC 27001 certified online healthcare platform

Know more about Tata 1mgdownArrow

Access medical and health information

Tata 1mg provides you with medical information which is curated, written and verified by experts, accurate and trustworthy. Our experts create high-quality content about medicines, diseases, lab investigations, Over-The-Counter (OTC) health products, Ayurvedic herbs/ingredients, and alternative remedies.

Order medicines online

Get free medicine home delivery in over 1800 cities across India. You can also order Ayurvedic, Homeopathic and other Over-The-Counter (OTC) health products. Your safety is our top priority. All products displayed on Tata 1mg are procured from verified and licensed pharmacies.

Book lab tests

Book any lab tests and preventive health packages from certified labs and get tested from the comfort of your home. Enjoy free home sample collection, view reports online and consult a doctor online for free.

Consult a doctor online

Got a health query? Consult doctors online from the comfort of your home for free. Chat privately with our registered medical specialists to connect directly with verified doctors. Your privacy is guaranteed.