Categories: घरेलू नुस्खे

कान दर्द के लक्षण, कारण और घरेलू इलाज : Symptoms, Causes and Home Remedies for Ear Pain

सामान्य रूप से कान में दर्द किसी संक्रमण या जुकाम के कारण होता है लेकिन कभी-कभी कुछ अन्य कारणों से भी कान दर्द की समस्या हो जाती है। कान के मध्य से लेकर गले के पीछे तक यूस्टेशियन ट्यूब होती है, यूस्टेशियन ट्यूब कान के बीच तरल पदार्थ का उत्पादन करती है इसलिए इसके अवरूद्ध होने पर तरल पदार्थ का निर्माण अधिक होने से यह कान के पर्दे पर दबाव डालकर कान में दर्द का कारण बनती है और उपचार न होने पर यह तरल पदार्थ संक्रमित होकर कान में संक्रमण पैदा करता है।

बच्चों में यह समस्या ज्यादातर तब देखी जाती है जब कान की नलिका को कॉटन या किसी तेज चीज से साफ करने पर चोट पहुँचती है। कईं बार कान में साबुन, शैम्पू या पानी के रह जाने से भी दर्द होने लगता है। आमतौर पर कान में दर्द होना किसी गंभीर समस्या का संकेत नहीं है लेकिन यह बहुत पीड़ादायक होता है।

Contents

कान का दर्द क्या है? (What is Ear Pain?)

आयुर्वेदीय ग्रन्थों में कान दर्द को कर्णशूल कहा गया है, इसमें वात, पित्त, कफ और रक्त दूषित होते है। अनुचित आहार-विहार से कान में स्थित वायु प्रकुपित हुए वात, पित्त, कफ और रक्त दोषों से मिलकर असामान्य रुप से गति करती है अतः कान में चारो ओर तेज दर्द उत्पन्न होता है।

कान दर्द के कारण (Causes of Ear Pain in Hindi)

कान में दर्द सिर्फ एक वजह से नहीं होता है। इसके होने के पीछे बहुत सारे कारण होते हैं-

  • सर्दी और जुकाम यदि ज्यादा दिनों तक बना रहे तो कान में दर्द हो सकता है।
  • कान के पर्दे के फटने या कान के पर्दे में छेद होने पर कान में दर्द हो सकता है इसके कई कारण हो सकते हैं जैसे, कान में कोई वस्तु डालना, सिर पर गंभीर चोट, बहुत तेज आवाज, मध्य कान में संक्रमण होना।
  • ओटाइटिस मीडिया बच्चों में कान दर्द का एक आम कारण है। यह मध्य कान में होने वाला एक संक्रमण है। इसमें कान में बहुत तेज दर्द होता है। इसके अन्य लक्षणों में तेज बुखार, लगातार कान में दर्द, सुनने में कठिनाई होती है।
  • कान में पानी जाने की वजह से या वैक्स जमा होने की वजह से भी कान में दर्द रहता है।
  • बच्चों में कान दर्द का सबसे आम कारण इंफेक्शन या कोल्ड है या फिर किसी तेज चीज से कान को साफ करने से दर्द हो जाता है।
  • कई बार नहाते समय साबुन या शैम्पू के कान रह जाने से भी कान में दर्द होता है।
  • इयर बैरोट्राँमा ज्यादातर स्काइडाइविंग, स्कूवा डाइविंग या हवाई जहाज की उड़ानों के दौरान अनुभव होता है,जैसे जब विमान लैंडिंग के लिए उतरता है तब वायुमंडलीय दबाव और कान दबाव में अंतर मध्य कान में वैक्यूम पैदा कर कान के पर्दे पर दबाव डालता है जिसके कारण कान में दर्द होता है। बैरोट्रॉमा का मुख्य कारण कान के दबाव में अचानक परिवर्तन होना है तथा इसके अन्य कारणों में गले में सूजन, एलर्जी से नाक का बंद होना, श्वसन संक्रमण है। बैरोट्रॉमा की स्थिति में कान में दर्द तथा कान भरा हुआ महसूस होता है।
  • कान के पर्दे का फटना भी कान दर्द का एक मुख्य कारण है। किसी भी वजह से इस संवेदनशील जगह पर क्षति पहुँचने से कान में दर्द होने लगता है। कान का पर्दा कान में पेन, सेफ्टीपिन या कोई अन्य नुकीली वस्तु के डालने से, सिर पर गंभीर चोट, बहुत तेज ध्वनि सुनना, इसके कारण है।
  • किसी बारीक चीज से कान में खुजलाने से।
  • साइनस के संक्रमण के कारण भी कान दर्द की समस्या हो जाती है। साइनस हमारे माथे, नाक की हड्डियों, गाल और आँखों के पीछे खोपड़ी में पाया जाने वाला हवा भरा रिक्त स्थान है। स्वस्थ साइनस से प्रवाह कर सकती है परंतु साइनस के म्यूकस से अवरुद्ध होने से वहाँ पर संक्रमण हो जाता है तथा साइनस में सूजन आ जाती है। इस कारण से कान में दर्द होने लगता है।
  • दाँत में बैक्टिरीयल इंफेक्शन होने की वजह से भी कान में दर्द होने लगता है। दाँत में कैविटी या संक्रमण होने से, कई बार यह संक्रमण दाँतों का समर्थन करने वाली हड्डियों तक फैलकर गंभीर दर्द का कारण बनता है।
  • जबड़े में सूजन होना।
  • कान में फुंसी होना।
  • कान में किसी बाहरी वस्तु या कीड़े के घुसने से भी दर्द होता है।

और पढ़े: दांत दर्द में पेपरमिंट के फायदे

कान दर्द रोकने के उपाय (How to Prevent Ear Pain in Hindi)

कान में दर्द होना एक आम समस्या है। लेकिन इसके होने के संभावना को कुछ हद तक कम किया जा सकता है। चलिये एक बार इस पर नजर डालते हैं.

  • कान में दर्द का एक कारण साइनस या सर्दी-जुकाम भी है अत: कान दर्द के रोगी को ठंडी चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • कफकारक आहार नहीं करना चाहिए।
  • जंकफूड एवं बासी भोजन का सेवन एकदम ना करें।
  • नहाने के समय पानी या साबुन के कान में जाने से बचाव करना चाहिए।
  • किसी तेज या नुकीली वस्तु से कान को साफ नहीं करना चाहिए।
  • नियमित रुप से प्राणायाम एवं योगासन करना चाहिए।
  • बहुत तेज ध्वनि से बचाव करना चाहिए।

और पढ़ेंकान के दर्द में धतूरा के फायदे

कान दर्द से छुटकारा पाने के घरेलू नुस्खे (Home Remedies for Ear Pain in Hindi)

कान दर्द कभी-कभी मौसम के कारण भी होता है। आम तौर पर लोग कान दर्द होने पर पहले घरेलू नुस्खे ही आजमाते हैं।

लहसुन की कली कान दर्द में फायदेमंद (Garlic help to get relief from Ear Pain in Hindi)

लहसुन की कली, अदरक, सहजन के बीज, मूली और केले का पत्ता इनका अलग-अलग या एक साथ रस निकालकर गर्म ही कान में डालने से कान का दर्द ठीक हो जाता है।

2-3 बारीक कटी लहसुन की कलियों को सरसों के तेल के साथ गरम करें। इस तेल को ठण्डा कर के छान ले। इस तेल की 2-3 बूँद कान में डालने से तुरन्त आराम मिलता है।

प्याज का रस डालने से कान दर्द होता है कम (Onion : Home remedy for Ear pain in Hindi)

एक चम्मच प्याज का रस हल्का गुनगुना गर्म कर लें। इसे 2-3 बूँद कान में डालने से आराम मिलता है। दिन में 2-3 बार इसको दोहराए।

और पढ़ें : प्याज के फायदे और नुकसान

अदरक का रस कान दर्द में लाभकारी (Ginger helps in Ear Pain in Hindi)

अदरक का रस निकाल कर कान में 2-3 बूँद डालें।

अदरक को पीस कर जैतून के तैल में मिलाएँ अब इसे छानकर इस तेल को 2-3 बूँद कान में डालें।

और पढ़ें : अदरक के फायदे और नुकसान

ऑलिव ऑयल कान दर्द से दिलाये आराम (Olive oil : Home remedy for Ear pain)

जैतून के तेल को हल्का गरम करके कान में 3-4 बूँद डालने से भी आराम मिलता है।

पिपरमेंट कान दर्द में लाभकारी (Peppermint help to fight with Ear Pain in Hindi)

पिपरमेंट की ताजी पत्तियों के रस निकाल कर 2-3 बूँद कान में डालें।

और पढेंकान दर्द में चुकन्दर के फायदे

तुलसी के रस से दूर करें कान का दर्द (Tulsi : Home remedy for Ear pain)

तुलसी की पत्तियों को ताजा रस कान में डालने से 1-2 दिन में ही कान का दर्द समाप्त हो जाता है।

और पढ़ें : तुलसी के फायदे, नुकसान और उपयोग

आम के पत्ते का रस कान दर्द में लाभकारी (Mango leaves benefits for Ear Pain)

आम के ताजे पत्तों को पीसकर रस निकाल लें तथा ड्रॉपर की सहायता से 3-4 बूँद कान में डाल लें।

और पढ़ेंकान की समस्‍याओं में आक के फायदे

नीम कान दर्द कम करने में फायदेमंद (Neem leaf beneficial in Ear Pain)

नीम की पत्तियों का रस निकाल कर 2-3 बूँद कान में डालने से संक्रमण तथा दर्द से राहत मिलती है।

और पढ़ें : नीम के फायदे और नुकसान

केले के तने का रस कान दर्द से दिलाये राहत (Banana stem help to relieve from Ear Pain)

केले के तने का रस निकाल कर सोने से पहले रात को कान में डालें। इससे सुबह तक कान के दर्द में राहत मिल जाएगी।

और पढ़ेकान के दर्द में भांग के फायदे

अजवाइन कान दर्द में लाभकारी (Carom seed oil :Home remedies for Ear pain)

अजवाइन का तेल सरसों के तेल में मिलाकर गुनगुना करें और कान में डालें।

और पढ़ें: कान दर्द से राहत के लिए अजवाइन का उपयोग

बेल कान दर्द से दिलाये आराम (Wood apple help to get relief from Ear Pain)

बेल के पेड़ की जड़ को नीम के तेल में डुबा कर उसे जला दें और जो तेल इसमें से रिसेगा वह सीधे कान में डालें। यह कान के संक्रमण और दर्द दोनों को ठीक करता है।

मेथी कान दर्द में फायदेमंद (Fenugreek : Home remedy for Ear pain)

मेथी को पीसकर गाय के दूध में मिलाकर इसकी कुछ बूँदें कान में डालें। यह कान के संक्रमण में लाभदायक है।

और पढ़े:

डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए (When to see a Doctor)

यदि कान का दर्द कम नहीं हो रहा है और घरेलु उपचार करने से आराम न मिल रहा हो या कान से तरल पदार्थ निकल रहा है तो तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करना चाहिए।

आचार्य श्री बालकृष्ण

आचार्य बालकृष्ण, आयुर्वेदिक विशेषज्ञ और पतंजलि योगपीठ के संस्थापक स्तंभ हैं। चार्य बालकृष्ण जी एक प्रसिद्ध विद्वान और एक महान गुरु है, जिनके मार्गदर्शन और नेतृत्व में आयुर्वेदिक उपचार और अनुसंधान ने नए आयामों को छूआ है।

Share
Published by
आचार्य श्री बालकृष्ण

Recent Posts

गले की खराश और दर्द से राहत पाने के लिए आजमाएं ये आयुर्वेदिक घरेलू उपाय

मौसम बदलने पर अक्सर देखा जाता है कि कई लोगों के गले में खराश की समस्या हो जाती है. हालाँकि…

12 months ago

कोरोना से ठीक होने के बाद होने वाली समस्याएं और उनसे बचाव के उपाय

अभी भी पूरा विश्व कोरोना वायरस के संक्रमण से पूरी तरह उबर नहीं पाया है. कुछ महीनों के अंतराल पर…

12 months ago

डेंगू बुखार के लक्षण, कारण, घरेलू उपचार और परहेज (Home Remedies for Dengue Fever)

डेंगू एक गंभीर बीमारी है, जो एडीस एजिप्टी (Aedes egypti) नामक प्रजाति के मच्छरों से फैलता है। इसके कारण हर…

1 year ago

वायु प्रदूषण से होने वाली समस्याएं और इनसे बचने के घरेलू उपाय

वायु प्रदूषण का स्तर दिनोंदिन बढ़ता ही जा रहा है और सर्दियों के मौसम में इसका प्रभाव हमें साफ़ महसूस…

1 year ago

Todari: तोदरी के हैं ढेर सारे फायदे- Acharya Balkrishan Ji (Patanjali)

तोदरी का परिचय (Introduction of Todari) आयुर्वेद में तोदरी का इस्तेमाल बहुत तरह के औषधी बनाने के लिए किया जाता…

2 years ago

Pudina : पुदीना के फायदे, उपयोग और औषधीय गुण | Benefits of Pudina

पुदीना का परिचय (Introduction of Pudina) पुदीना (Pudina) सबसे ज्यादा अपने अनोखे स्वाद के लिए ही जाना जाता है। पुदीने…

2 years ago