header-logo

AUTHENTIC, READABLE, TRUSTED, HOLISTIC INFORMATION IN AYURVEDA AND YOGA

AUTHENTIC, READABLE, TRUSTED, HOLISTIC INFORMATION IN AYURVEDA AND YOGA

लीची के फायदे : Lichi Benefits in Hindi

Contents

लीची का परिचय (Introduction of Litchi)

लीची (lychee fruit) सभी लोग खाते होंगे। यह बहुत ही मीठी और स्वादिष्ट होती है। बच्चे हों या वयस्क, सभी लोग लीची खाना पसंद करते हैं। लीची ही एक ऐसा फल है जिसको पेड़ पर उगने वाला रसगुल्ला कहा जाता है। गर्मी के दिनों में इसकी मिठास और रसीलेपन से लोगों को गर्मी से निजात मिलती है। नीचे हम विस्तार से आपको लीची के फायदे के बारे में बताएंगे –

Litchi Benefits

लीची क्या है? (What is Lichi?)

लीची का पेड़ (litchi fruit tree) मध्यम आकार का होता है। इसके फल गोल और कच्ची अवस्था में हरे रंग के होते हैं। ये पकने पर मखमली-लाल रंग के हो जाते हैं। फल के अन्दर का गूदा सफेद रंग का, मांसल और मीठा होता है। प्रत्येक फल के अन्दर भूरे रंग का बीज होता है।

आयुर्वेद में लीची सिर्फ अपने मधुर स्वाद के लिए ही नहीं, बल्कि अनेक औषधीय गुणों के कारण भी जाना जाती है। लीची गर्म प्रकृति वाली फल है, जो गठिया के दर्द, वात तथा पित्त दोष को कम (Lichi ke Fayde) करती है।

अन्य भाषाओं में लीची के नाम (Name of Lichi Fruit in Different Languages) 

लीची का वानस्पतिक नाम Litchi chinensis (Gaertn.) Sonner. (लिची चाइनेन्सिस) Syn-Nephelium litchi Cambess है। लीची का कुल Sapindaceae (सैपिण्डेसी) है। इसे देश या विदेश में इन नामों से भी जाना जाता हैः-

Lichi –

  • Name of Lichi in English (litchi in english)– लीट्ची (Litchee), Litchi (लीची)
  • Name of Lichi in Sanskrit– लीची;
  • Name of Lichi in Hindi (Lichi in Hindi)– लीची;
  • Name of Lichi in Urdu– लीचूर (Lichur);
  • Name of Lichi in Oriya– लीसी (Lishi),
  • Name of Lichi in Kannada– लीची हन्नु (Lichi hannu);
  • Name of Lichi in Gujarati– लीची (Lichi);
  • Name of Lichi in Bengali– लीची (Lichi);
  • Name of Lichi in Tamil– इलाइची (Ellaichi);  
  • Name of Lichi in Nepali– लिची (Litchi);
  • Name of Lichi in Marathi– लीची (Lichi); 

Litchi Ke fayde

लीची के फायदे (Lichi Benefits and Uses in Hindi) :

लीची के बहुत सारे फायदे हैं, जिससे आप अनजान हैं। लीची के पेड़ की छाल, बीज, पत्तों से लेकर फल के अनगिनत गुण हैं। लीची के बीज में विषनाशक और दर्द निवारक गुण होते हैं। लीची मुंह के रोग में लाभकारी होने के साथ डायबिटीज को नियंत्रित करने में मदद करती है। यहां तक कि इसके पत्तों में भी कीट-दंश-नाशक गुण होते हैं। चलिये लीची के फायदों के बारे में विस्तार से जानते हैं।

मुँह के छाले में लीची के फायदे (Lychee Benefits in Mouth Ulcer in Hindi)

अक्सर खान-पान में बदलाव होने या अन्य गड़बड़ी के कारण मुंह में छाले या अल्सर हो जाते हैं। इसी तरह कई लोगों के मुंह से दुर्गंध आने की समस्या भी हो जाती है। इसके लिए लीची के पेड़ की छाल बहुत लाभकारी होती है। लीची के पेड़ (Lychee plant) की जड़ या तने की छाल का काढ़ा बना लें। इससे कुल्ला करने से मुंह के रोग में फायदा पहुंचता है।

आंतों के रोग में लीची के फायदे (Lychee Benefits for Intestinal Diseases in Hindi)

आंतों के अस्वस्थ होने पर पेट में दर्द, एसिडिटी जैसे लक्षण दिखने लगते हैं। इसके साथ ही बदहजमी, दस्त, उल्टी आदि जैसी परेशानियां भी होने लगती हैं। इस स्थिति में लीची फल, मज्जा या गूदे (2-4 ग्राम) को कांजी में पीस लें। इसका सेवन करने से पेट संबंधी समस्याओं से राहत (Lichi ke Fayde) मिलती है।

कंठ रोग में लीची के फायदे (Benefits of Litchi in Throat Problems in Hindi)

मौसम के बदलाव के कारण कभी-कभी गले में दर्द होने लगता है, जिसके कारण बुखार भी आ जाता है। इस दर्द का इलाज लीची के पास है। लीची के पेड़ की जड़, छाल और फूल का काढ़ा बना लें। इसे गुनगुना करके गरारा करें। इससे गले के दर्द से आराम मिलता है।

तंत्रिका-तंत्र विकार में लीची के फायदे (Benefits of Litchi for Neurological Disorder in Hindi)-

इस बीमारी के कारण मरीज का अपने अंगों पर नियंत्रण नहीं रहता है। शरीर के अंग, जैसे- हाथ, पैर, चेहरा आदि बिना किसी कारण हरकत करने लगते हैं। लीची के बीज का प्रयोग तंत्रिका-तंत्र विकारों के इलाज में कर सकते हैं। इससे लाभ होता है।

मधुमेह या डायबिटीज में लीची के सेवन से फायदे (Litchi to control Diabetes in Hindi)

आजकल की सुस्त जीवनशैली की वजह से मधुमेह के मरीजों की संख्या दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। तनाव, नींद में कमी, जंक फूड का ज्यादा सेवन, या ज्यादा मीठा खाने से भी डायबिटीज होने की संभावना बढ़ जाती है। लीची (litchi) के सेवन से मधुमेह के नियंत्रण में मदद मिलती है।

चेचक में लाभकारी लीची (Lichi to Get Relieve from Small Pox in Hindi)

इस बीमारी को अंग्रजी में स्मॉल पॉक्स कहते हैं। इस बीमारी में शरीर पर मसूर दाल के जैसे दाने निकल आते हैं। ये दाने, फुन्सियों का रूप ले लेते हैं। इन फुन्सियों में बहुत दर्द भी होता है, और इनके कारण बुखार भी आ जाता है। लीची के कच्चे फल का प्रयोग बच्चों के चेचक रोग की चिकित्सा (Lichi ke Fayde) में किया जाता है।

अंडकोष विकार में लीची के फायदे (Benefits of Lichi to Treat Testicular Inflammation in Hindi)

अंडकोष में दर्द और सूजन हो तो लीची के बीज से फायदा ले सकते हैं। लीची के बीज का काढ़ा बना लें। इसे 10-15 मिली मात्रा में पिएं। इससे अंडकोष के दर्द और सूजन से राहत मिलती है। इससे अंडकोष की जलन भी खत्म हो जाती है।

कीड़ों के काटने पर लाभकारी लीची (Uses of Litchi to Treat Insect Bite in Hindi)

कई बार छोटे-छोटे कीड़ों के काटने पर दर्द, जलन और सूजन हो जाती है। इस दर्द से राहत दिलाने में लीची बहुत काम आती है। लीची (Lychee) के पत्तों को पीस लें। इसे कीड़े के काटने वाले जगह पर लगाएं। इससे दर्द, जलन तथा सूजन और अन्य विषाक्त प्रभावों से छुटकारा मिलती है।

लीची का उपयोगी भाग (Useful part of Litchi Fruit)

आयुर्वेद में लीची की छाल, बीज और पत्ते का प्रयोग औषधि के लिए किया जाता है।

लीची का इस्तेमाल कैसे करें (How to Use Litchi in Hindi)

आमतौर पर लीची (litchi fruit) का सेवन नीचे लिखी हुई मात्रा के अनुसार ही करना चाहिए। अगर आप किसी ख़ास बीमारी के इलाज के लिए लीची का उपयोग कर रहें हैं तो आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह ज़रूर लें।

-10-15 मिली -लीची का काढ़ा

लीची कहां पायी या उगाई जाती है (Where is Litchi Fruit Found or Grown)

लीची (Lychee plant) भारत में मुख्यतः उत्तरी भारत जैसे- बिहार, आसाम, पश्चिम बंगाल, उत्तराखण्ड, आंध्र प्रदेश एवं नीलगिरी क्षेत्रों में पाई जाती है। लीची के पेड़ घरों और बागीचों में भी लगाए जाते हैं।