header-logo

AUTHENTIC, READABLE, TRUSTED, HOLISTIC INFORMATION IN AYURVEDA AND YOGA

AUTHENTIC, READABLE, TRUSTED, HOLISTIC INFORMATION IN AYURVEDA AND YOGA

गंजापन दूर करने के घरेलू उपाय : Home remedies for Baldness

बाल स्तनधारी प्राणियों के वाह्य चर्म का विकास होता (outer growth) है। बाल कोमल से लेकर रूखा, कड़ा और नुकीला होता है। आजकल के प्रदूषण भरे वातावरण के लिए बालों के गिरने की समस्या आम हो गई है। वैसे तो बाल गिरने के कई अलग-अलग कारण होते हैं। चिकित्सा विज्ञान के आधार पर बालों का झड़ना कई प्रकार के हो सकते हैं-

-लंबी बीमारी, बड़ी शल्य क्रिया यानि सर्जरी अथवा गम्भीर संक्रमण जैसे बड़े शारीरिक तनाव के दो या तीन महीने के बाद बालों का झड़ना एक सामान्य प्रक्रिया है।

-हार्मोन स्तर में आकस्मिक बदलाव से महिलाओं में बाल झड़ने की समस्या हो जाती हैं, क्योंकि शिशु के जन्म के बाद महिलाओं में कैल्शियम की कमी होने लगती है जिसके कारण बाल झड़ने की समस्या होने लगती है।

-बालों का झड़ना चिकित्सा बीमारी का लक्षण हो सकता है जैसे; थायरॉइड विकृति, सेक्स हार्मोन में असंतुलन या गम्भीर पोषाहार समस्या विशेषकर प्रोटीन, लौह, बायोटिन की कमी। यह कमी खान-पान में परहेज करने वालों और जिन महिलाओं को मासिक धर्म में बहुत ज्यादा रक्त स्राव होता है उनमें यह आम है।

-सिर की खोपड़ी या स्कैल्प में जब विशेष प्रकार की फफूंद से संक्रमण हो जाता है तो बीच-बीच में बाल झड़ने लगते हैं। आमतौर पर बच्चों में भी बीच-बीच में बाल झड़ने का संक्रमण पाया जाता है।

Baldness

Contents

गंजापन क्या है? (What is Baldness?)

गंजापन की स्थिति में सिर के बाल बहुत कम रह जाते हैं। गंजापन की मात्रा कम या अधिक हो सकती है। गंजापन को एलोपेशिया भी कहते हैं। जब असामान्य रूप से बाल झड़ने लगते हैं और नये बाल उतनी तेजी से नहीं उग पाते या फिर वे पहले के बाल से अधिक पतले या कमजोर उगते हैं। इसके चलते बालों का कम होना या कम घना होना शुरू हो जाता है और ऐसी हालत में सचेत हो जाना चाहिए क्योंकि यह स्थिति गंजेपन की ओर ले जाती है।

गंजापन तीन प्रकार का होता है-

एंड्रोजेनिक एलेपिसिया- यह महिलाओं से ज्यादा पुरुषों को होता है। इसलिए इसे पुरुषों का गंजापन भी कहा जाता है। यह स्थायी किस्म का गंजापन है और एक खास ढंग से खोपड़ी पर उभरता है। यह कनपटी और सिर के ऊपरी हिस्से से शुरु होकर पीछे की ओर बढ़ता है। यह जवानी के बाद किसी भी उम्र में शुरु हो सकता है और व्यक्ति को आंशिक रूप से या पूरी तरह गंजा कर सकता है।

एलोपेसिया एरीटा- इसमें सिर के अलग-अलग हिस्सों में जहां-तहां के बाल गिर जाते हैं। जिससे सिर पर गंजेपन का पैच-सा दिखता है। इसकी वजह अब तक अनजान है पर माना जाता है कि यह शरीर की रोगप्रतिरोधी शक्ति कम होने के कारण होता है।

ट्रैक्शन एलोपेसिया- यह लंबे समय तक एक ही ढंग से बाल के खिंचे रहने के कारण होता है। जैसे, कोई खास तरह से हेयरस्टाईल या चोटी रखना। लेकिन हेयरस्टाईल बदल देने पर बाल के खिंचाव को खत्म कर देने के बाद इसमें बालों का झड़ना रुक जाता है।

और पढ़े- सफेद बालों को काला करने के घरेलू उपाय

गंजापन के लक्षण (Symptoms of Baldness)

गंजापन का मूल लक्षण तो बालों का तेजी से झड़ना होता है, इसके अलावा जो लक्षण शामिल होते हैं, वह हैं-

-कंघी करते हैं और बालों का गुच्छा आपके हाथों में होता है।

-बाल आपके कपड़ों के साथ भी चिपके होते हैं।

-बालों में हाथ डालते हैं तो आपके बाल हाथ में आ जाते हैं।

और पढ़े- दोमुँहें बालों के लिए घरेलू उपाय

गंजापन क्यों होता है? (Causes of Baldness)

प्रत्येक व्यक्ति का स्वास्थ्य वात, पित्त और कफ पर निर्भर करता है। गंजेपन की समस्या आमतौर पर त्रिदोष है परन्तु इसमें पित्त दोष की प्रधानता होती है। इसके अलावा और भी आम कारण होते हैं, जिसके कारण बाल झड़कर गंजापन हो जाता है-

-हार्मोनल बदलाव

-एजिंग

-आनुवंशिकता

-शरीर में आयरन व प्रोटीन की कमी होना

-वजन का तेजी से घटना।

-ज्यादा मात्रा में विटामिन-ए का सेवन।

-बालों की जड़ों में संक्रमण

-ट्रॉमा

-गर्भनिरोधक गोलियों का ज्यादा सेवन

-दवाओं के साइड इफेक्ट

-तनाव

-महिलाओं में प्रसव यानि डिलिवरी के दौरान

-महिलाओं में मेनोपॉज के दौरान

-कैंसर के इलाज कीमोथेरेपी के बाद

-टाईट हेयर स्टाईल

-थायरॉइड की बीमारी

-बालों में डाई, कलर और केराटिन हेयर ट्रीटमेंट से

-डायट में बदलाव करने से

-लम्बी और गंभीर बीमारी से

-एनीमिया होने पर

-एनाबॉलिक स्टेरॉयड गोली खाने से।

पुरुषों में गंजेपन का कारण

Causes of Baldness

अक्सर उम्र बढ़ने के साथ पुरुषों के बाल झड़ने लगते हैं और इस स्थिति को गंजापन कहा जाता है। विज्ञान की भाषा में इसे एंड्रोजेनिटिक एलोपेसिया भी कहा जाता है। इसके शुरुआती लक्षण दिखने पर लोग इसे नजरअंदाज कर देते हैं लेकिन 30 वर्ष की उम्र के बाद यह बहुत अधिक प्रभावी हो जाता है जो कि धीरे-धीरे पूरे सिर के बाल खत्म कर देता है।

आमतौर पर हमारा मानना होता है कि यह आनुवांशिक है जो कि सही भी है लेकिन इसके अलावा यह भी है कि इस दौरान हेयर फॉलिकल छोटे हो जाते हैं और बाल पतले और महीन होने लग जाते हैं जिससे इनका झड़ना शुरु हो जाता है। इसके अलावा एंड्रोजन हार्मोन की कमी की वजह से भी बालों का झड़ना शुरु हो जाता है जो कि गंजेपन में बदल जाता है।

गंजेपन में पुरुषों के साथ एक ऐसी स्थिति आती है जब केवल उनके सिर के पिछले हिस्से में नाम मात्र के बाल बचे होते हैं और सामने का पूरा सिर साफ हो चुका होता है। इसके अलावा गंजेपन का एक मुख्य कारण है तनाव।

तनाव लेने से हमारे बालों में बहुत असर पड़ता है और इससे बहुत जल्दी गंजापन आने लगता है। जहां सामान्यत गंजापन लगभग 30 वर्ष की उम्र के बाद आता है तो वहीं तनाव लेने से यह बहुत जल्दी शुरु होने लगता है।

कुछ और कारण है जैसे कि तरह-तरह के शैम्पू और कंडीशनर का इस्तेमाल करना या फिर बालों में लगातार केमिकल वाले पदार्थ लगाते रहना।

और पढ़े- बालों को सीधा करने के घरेलू उपाय

महिलाओं में गंजेपन का कारण

-महिलाओं में गंजेपन की समस्या हार्मोन्स के असंतुलन के कारण होती है।

-गर्भावस्था और मेनोपॉज के समय महिलाओं में सबसे ज्यादा हार्मोन्स में परिवर्तन होता है जिसके कारण गंजेपन की समस्या होती है।

-बालों की जड़ों का कमजोर हो जाना।

-पिट्यूटरी ग्लैंड में हार्मोन्स की कमी।

-सिर पर ज्यादा रूसी होना।

-बालों की जड़ों को जरूरी पोषक तत्व न मिलना।

-मानसिक तनाव में रहना।

-किसी विषय पर ज्यादा सोच-विचार करना।

-अधिक गर्म खाना।

-बालों में बार-बार कंघी करना।

यहां तक कि गंजापन किसी गंभीर बीमारी के कारण भी हो सकता है-

कभी-कभी गंजेपन की समस्या किसी गंभीर बीमारी के कारण भी होती है-

-थायरॉइड की विकृति से।

-सेक्स हार्मोन में असंतुलन होने से।

-गंभीर पोषाहार, जैसे; प्रोटीन, लौह, जस्ता या बायोटीन की कमी से। यह कमी खान-पान में परहेज करने वालों और जिन महिलाओं को मासिक धर्म में बहुत ज्यादा रक्त स्राव होता है उनमें यह आम है।

-सिर की त्वचा में जब विशेष प्रकार की फफूंद से संक्रमण हो जाता है तो बीच-बीच में बाल झड़ने लगते हैं।

और पढ़े- रुखे बालों के लिए घरेलू उपचार

गंजापन से बचने के उपाय (Prevention Tips of Baldness)

बालों के गिरने और गंजेपन से आज के समय में हर दूसरा व्यक्ति परेशान है। कम उम्र में ही लोगों के बाल झड़ रहे हैं। बालों की ग्रोथ और स्वास्थ्य हमारे खान-पान और जीवनशैली से जुड़ा हुआ है। यदि हम पौष्टिक आहार का सेवन करेंगे तो हमारे बाल भी स्वस्थ रहेंगे और बालों से संबंधित बीमारियों से भी छुटकारा मिलेगा। कहने का मतलब यह है कि गंजापन से बचने के लिए जीवनशैली के साथ आहार में भी बदलाव लाना बहुत ज़रूरी होता है। इससे कुछ हद तक बालों का झड़ना कम कर सकते हैं।

आहार-

-बालों के लिए प्रोटीन का ज्यादा से ज्यादा सेवन करना चाहिए। हमारी डायट में प्रोटीन की मात्रा भरपूर होनी चाहिए। कम प्रोटीन की मात्रा की वजह से बाल झड़ भी सकते हैं। इसलिए इसकी मात्रा के लिए चिकन, फिश, अण्डा और डेयरी प्रोडक्ट्स का सेवन करें। इसके अलावा अगर आप शाकाहारी हैं तो आप फलीदार सब्जियों और बादाम का सेवन करें।

-आयरन बालों के लिए एक अहम मिनरल है और आयरन की शरीर में कम मात्रा होने की वजह से भी आपके बाल झड़ सकते हैं। आपके शरीर में आयरन का स्तर कम हो जाता है तो आप एनिमिया के शिकार भी हो सकते हैं। रेड मीट, चिकन और फिश में काफी मात्रा में आयरन होता है। इसके अलावा हरी सब्जियों में भी काफी मात्रा में आयरन पाया जाता है। शाकाहारी लोग मसूर की दाल और पालक खा सकते हैं। ब्रॉकली, गोभी और ग्रीन सलाद का सेवन भी किया जा सकता है।

-बालों की ग्रोथ के लिए विटामिन-सी की भी जरूरत होती है। इसके लिए आप ब्लूबेरी, ब्रॉकली, अमरूद, कीवी, संतरा, पपीता, स्ट्रॉबेरी और मीठे आलू खाएं।

-ओमेगा-3 फेटी ऐसिड शरीर के लिए जरूरी फैट है, जो कि हमारा शरीर खुद से नहीं बना सकता। इसके लिए आपको पौष्टिक आहार लेना चाहिए। यह कई तरह की मछलियों में पाया जाता है। इसके अलावा शाकाहारी लोग एवाकाडो, अखरोट और सीताफल के जरिए इसकी पूर्ति कर सकते हैं।

-विटामिन-ए से शरीर में सीबम बनता है। सीबम का एक चिकन तत्व होता है। यदि हमारे सिर में सीबम नहीं बनेगा तो इससे खुजली होने लगेगी और बाल रूखे हो जाएंगे। मांसाहारी प्रोडक्ट्स के अलावा गाजर, सीताफल और मीठे आलू से हमारे शरीर को विटामिन-ए मिल सकता है।

और पढ़े-रुखे बालों के लिए घरेलू उपचार

जीवनशैली

अगर आपको गंजेपन की समस्या है, तो आपको खाना बनाते समय या खाना खाते समय उसमें बाल गिरने से बचाव करना चाहिए।

-बार-बार अपने बालों को घुमाने, रगड़ने या खींचने की आदत से बचें।

-बालों को धीरे-धीरे गुनगुने पानी से धोना चाहिए।

-बालों में कंघी या ब्रश धीरे-धीरे करें।

-बालों को डाई, कलर व जेल आदि का प्रयोग करने से भी बचें।

-अपने बालों को धोने के लिए कैमिकल युक्त शैम्पू का प्रयोग न करें।

-बालों को प्रतिदिन नहीं धोना चाहिए।

-बालों को धोने के लिए गर्म पानी का त्याग कर गुनगुने पानी का इस्तेमाल करना चाहिए।

-बालों में कंघी या ब्रश धीरे-धीरे करें।

-बालों में डाई, कलर व जेल आदि का प्रयोग करने से भी बचना चाहिए।

-बालों को कसकर न बांधें।

और पढ़े-घने बालों के लिए घरेलू उपाय

गंजेपन को दूर करने का घरेलू इलाज (Home Remedies for Baldness)

आम तौर पर बालों का झड़ना या गंजापन दूर करने के लिए लोग सबसे पहले घरेलू नुस्ख़ों को ही आजमाते हैं।  यहां हम पतंजली के विशेषज्ञों द्वारा पारित कुछ ऐसे घरेलू उपायों के बारे में बात करेंगे जिनके प्रयोग से बालों की झड़ने की परेशानी से कुछ हद तक कम होती है-

मेथी गंजापन दूर करने में फायदेमंद (Fenugreek Beneficial for Bladness in Hindi)

Fenugreek for Baldness

मेथी को पूरी रात भिगो दीजिए फिर सुबह उसे गाढ़ी दही में मिला कर अपने बालों और जड़ों में लगाइए। बालों को धो लें, इससे रूसी और सिर की त्वचा के विकार समाप्त होंगे। मेथी में निकोटिनिक एसिड और प्रोटीन पाया जाता है जो बालों की जड़ों को पोषण पहुँचाता है और बालों को बढ़ाने में भी मदद करता है।

उड़द दाल गंजापन दूर करने में फायदेमंद (Fenugreek Beneficial for Bladness in Hindi)

उड़द की दाल को उबाल कर पीस लीजिए, रात को सोने से पहले इस लेप को सिर पर लगाइए। कुछ दिनों तक करते रहने पर बाल उगने लगते हैं और गंजापन समाप्त हो जाता है।

मुलेठी  गंजापन दूर करने में फायदेमंद (Fenugreek Beneficial for Bladness in Hindi)

-थोड़ी-सी मुलेठी लेकर दूध की कुछ बूंदे डालकर उसे पीस लीजिए, फिर उसमें चुटकी भर केसर डालकर उसका पेस्ट बनाइए। इस पेस्ट को रात में सोने से पहले सिर पर लगाने से लाभ मिलता है।

-इसके अलावा मुलेठी पीस कर इसमें एक चुटकी केसर और दूध मिलाकर एक लेप तैयार कर लें और रात को सोने से पहले इस लेप को सिर पर लगाएं। सुबह बालों को शैम्पू कर लें। इस नुस्खे को नियमित रूप से करने पर धीरे-धीरे गंजापन दूर हो जाता है।

और पढ़े- जानें मुलेठी के हैं ढेर सारे फायदे

हरा धनिया का पेस्ट गंजापन दूर करने में फायदेमंद (Coriander Hair Pack Beneficial for Bladness in Hindi)

हरे धनिये का पेस्ट बनाकर जिस स्थान के बाल उड़ गये हैं वहां लगाइए। कुछ दिनों तक लगाने से बाल उगने लगते हैं।

और पढ़े- हरा धनिया के फायदे

केले का पेस्ट गंजापन दूर करने में फायदेमंद (Banana Hair Pack Beneficial for Bladness in Hindi)

केले का गूदा निकालकर उसे नींबू के रस में मिलाकर सिर पर लगाने से बालों के झड़ने की समस्या कम होती है और बाल फिर से उगने लगते हैं।

प्याज गंजापन दूर करने में फायदेमंद (Onion Beneficial for Bladness in Hindi)

प्याज को काटकर उसके दो हिस्से कर लीजिए। जिस जगह के बाल झड़ गये हों वहां पर आधे-प्याज को पाँच मिनट तक रोज रगड़ें। बाल झड़ना बंद होगा ही साथ ही साथ बाल फिर से उगने लगेंगे।

तेल से मसाज गंजापन दूर करने में फायदेमंद (Hair Oil Massage Beneficial for Bladness in Hindi)

बाल उगाने हो या घने करने हों तो हेयर ऑयल से मसाज करना उत्तम उपाय है। जैतून तेल, नारियल तेल, आंवले का तेल और बादाम तेल बालों के लिए काफी उपयोगी है। इनमें से आप कोई भी तेल चुने और हफ्ते में दो से तीन बार सिर की अच्छे से मालिश करें। मालिश से पहले तेल को गुनगुना कर लें ताकि तेल सिर में अच्छे से समा सके।

आंवला हेयर पैक गंजापन दूर करने में फायदेमंद (Amla Hair Pack Beneficial for Bladness in Hindi)

Amla for Baldness

आँवला चूर्ण और नीम की पत्तियाँ एक साथ पानी में डालकर उबाल लें और इससे हफ्ते में दो बार सिर धोएं।

नमक का सेवन कम करने से बालों का झड़ना होता है कम (Reduce Amount of Salt Intake Beneficial for Baldness in Hindi)

गंजापन रोकने के उपाय कर रहे हैं तो नमक ज्यादा न खायें। नमक ज्यादा खाने से गंजापन की समस्या जल्दी आती है।

लहसुन का सेवन गंजेपन की समस्या से दिलाये राहत (Garlic Beneficial for Baldness in Hindi)

आपके परिवार में अगर गंजेपन की समस्या पीढ़ी दर पीढ़ी चली आ रही है तो भोजन में लहसुन का प्रयोग अधिक करें।

नीम का तेल गंजेपन की समस्या से दिलाये राहत (Neem Beneficial for Baldness in Hindi)

आपके बाल अगर सामान्य से अधिक उड़ते हो तो नीम का तेल बालों पर लगाएं। इस तेल से बालों की जड़े मजबूत होने लगती हैं जिससे बाल उड़ना कम होता है।

कलौंजी गंजेपन की समस्या से दिलाये राहत (Onion Seeds Beneficial for Baldness in Hindi)

कलौंजी पीस कर पानी में मिलाकर इस पानी से सिर धोये। कुछ दिन कलौंजी मिले पानी से सिर धोने पर बालों का झड़ना बंद होता है और धीरे-धीरे नये बाल आने लगते हैं।

डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए ? (When to See a Doctor?)

अगर आप निम्न समस्याओं का अनुभव कर रहे हैं तो डॉक्टर के पास जाना चाहिए-

-एक विशेष पैटर्न में बालों का झड़ना।

-तेजी से बालों का झड़ना।

-गंजापन का अंश बढ़ते जाना।

-पैच में गंजापन आना।

-बाल झड़ने के साथ खुजली, त्वचा में जलन, लालिमा, दर्द या अन्य लक्षण भी दिखाई देना।

-किसी दवा का सेवन करने के बाद बाल झड़ना।

-अगर आप अपने बालों के झड़ने का इलाज करवाना चाहते हैं, तो डॉक्टर के पास जाएं।