Categories: घरेलू नुस्खे

दाद खाज खुजली को ठीक करने के घरेलू इलाज : Home remedies for Ring worms

दाद एक प्रकार की त्वचागत समस्या है जो फंगल संक्रमण के कारण होता है। यह त्वचा की ऊपरी परत पर होता है तथा यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में बड़ी ही आसानी से फैल सकता है। दाद को चिकित्सकीय भाषा में टिनीया (Tinea) कहते है। यह एक परतदार त्वचा पर गोल और लाल चकत्ते के रूप में दिखाई देता है और इसमें खुजली एवं जलन होते है। यह बड़ी ही आसानी से संक्रमित व्यक्ति की चीजें या कपड़े उपयोग करने से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है।

Contents

दाद क्या होता है? ( What is RingWorm?)

अत्यधिक मीठा, नमकीन, बासी भोजन, दूषित आहार और साफ-सफाई की कमी के कारण कफ और कफ दोष असंतुलित हो जाते हैं जिससे त्वचा पर खुजली, जलन और लालिमा जैसे लक्षण उत्पन्न होकर दाद का रूप ले लेते हैं। दाद चार प्रकार के होते हैं-

टीनिया क्रूरीस (Tinea cruris)– यह जोड़ो, आंतरिक जांघे और नितम्बों के आस-पास की त्वचा पर होता है।

टीनिया कैपीटीस (Tinea capitis)– यह दाद सिर की त्वचा (Scalp) में होता है, जो मुख्य रूप से बच्चों को प्रभावित करता है। यह प्रकार सामान्य रूप से स्कूलों में फैलता है। इससे सिर के कुछ हिस्सों में गंजापन दिखने लगता है।

टीनिया पैडिस (Tinea Paedis) यह दाद पैर की त्वचा पर होता है। सार्वजनिक स्थानों पर नंगे पाँव जाने से इसका खतरा अधिक रहता है।

टीनिया बार्बी (Tinea Barbae) -यह चेहरे की दाढ़ी वाले क्षेत्र और गर्दन पर होता है। इसके कारण कई बार बाल टूटने लगते है। अक्सर यह नाईं के पास दाढ़ी कटवाने जाने के दौरान होता है इसलिए इसे बारबार्स इट्च (Barbars itch) भी कहते है।

दाद एक तरह का फंगल इंफेक्शन होता है जो एक तरह के फंगस के संक्रमण से होता है, इसमें खुजली एवं जलन होती है तथा यह गोल चकत्तो के रूप में होते है। वहीं एक्जिमा में भी तवचा पर खुजली और लाल चकत्ते हो जाते है परंतु यह फंगल इंफेक्शन नहीं है। एक्जिमा के पीछे का सही कारण अभी तक पूरी तरह से ज्ञात नहीं है परंतु कुछ ऐसे ट्रिगर है जो एक्जिमा को शुरू या खराब करने में जिम्मेदार होते है जैसे कुछ खाद्य पदार्थों के प्रति एलर्जी जैसे-डेयरी उत्पाद, खट्टे भोजन, मछली, अंडे, मसालेदार भोजन आदि या फिर किन्हीं विशेष पदार्थों के सम्पर्क में आने से जैसे-धूल के कण, पराग, बैक्टिरीया, वायरस रूली आदि। दूसरी तरफ एक्जिमा अनुवांशिक भी होता है, दोनों माता-पिता में से यदि किसी एक को भी यह समस्या रहती है तो सन्तान में भी एक्जिमा होने की सम्भावना बढ़ जाती है।

और पढ़े- एक्जिमा (खुजली) से राहत के घरेलू उपाय

दाद क्यों होता है? (Causes of Ringworm)

दाद फंगल के संक्रमण के कारण होता है, यह फफूंदी जैसा परजीवी बाहरी त्वचा की कोशिकाओं में पनपता है। यह बड़ी ही आसानी से तथा कई तरीकों से फैल सकता है। अगर किसी जानवर को दाद हुआ है तो उस जानवर को स्पर्श करने से भी दाद का संक्रमण मनुष्ण के शरीर में फैल सकता है। मनुष्य द्वारा किसी संक्रमित वस्तु को छूने से भी दाद का संक्रमण उनमें फैल सकता है जैसे कंघी, ब्रश, कपड़े, तौलिया, बिस्तर आदि।

दाद के लक्षण (Symptoms of Ringworm)

दाद होने पर खुजली होने के अलावा और भी लक्षण होते हैं-

  • दाद वाली जगह पर खुजली एवं जलन दोनों हो सकता है।
  • यह लाल चकत्ते के रूप में दिखाई देता है।
  • दाद वाले चकत्ते बाहरी तरफ से किनारों पर लाल होते है।
  • यह गोल चकत्तों के रूप में होते है तथा ऊपर की और उभरा हुआ होता है।

और पढ़े- ह्रदय में जलन की समस्या से आराम पाने के लिए घरेलू नुस्खे

दाद से बचने के उपाय (Prevention from Ringworm)

दाद-खाज और खुजली से बचने के लिए अपने आहार और जीवनशैली में ये सारे बदलाव लाने ज़रूरी हैं। अपने आहार में निम्न सारे आहार शामिल करने से फंगल संक्रमण होने का खतरा कम होता है-

  • विटामिन-ई से युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करें। इसकी मदद से हमारे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है जिसकी मदद से शरीर ल्यूकोसाइट्स (Leukocytes) का उत्पादन करता है तथा फंगस को नष्ट करने में मदद करता है। विटामिन-ई के लिए जैतून का तेल, सूरजमुखी का तेल, अखरोट, मसूर की दाल, पालक, बादाम, तिल आदि का सेवन करें।
  • भोजन में लौंग का प्रयोग करें। इसके सेवन से फंगल संक्रमण दूर होता है।
  • साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए तथा संक्रमित व्यक्ति द्वारा प्रयोग किए गए कपड़े, वस्तुएँ आदि का प्रयोग नहीं करना चाहिए। ऐसे पालतु जानवरों से भी दूर रहना चाहिए जो संक्रमित होते हैं।
  • अधिक पसीने से परहेज रखना चाहिए इसके लिए एंटी-फंगल का इस्तेमाल करें।
  • साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए तथा संक्रमित व्यक्ति द्वारा प्रयोग की हुई वस्तुओं को प्रयोग नहीं करना चाहिए।
  • अत्यधिक नमकीन एवं मीठे खाद्य पदार्थ, गुड़, चॉकलेट, सोडा युक्त पेय पदार्थ, अत्यधिक तला-भुना एवं मिर्च मसालेदार भोजन, जंक फूड, शराब, धूम्रपान तथा अन्य नशीले पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • दाद वाली जगह पर बार-बार खुजलाना नहीं चाहिए।

और पढ़े- खुजली के घरेलू उपाय

रिंगवर्म के घरेलू नुस्ख़े (Home Remedies for Ringworm)

आम तौर पर दाद-खाज और खुजली से आराम पाने के लिए लोग घरेलू नुस्खों का प्रयोग सबसे पहले करते हैं। चलिये जानते हैं कि वह घरेलू नुस्ख़े कौन-कौन से हैं-

नारियल का तेल रिंगवर्म से दिलाये राहत (Coconut oil Beneficial for Ringworm)

नारियल का तेल त्वचा संबंधी समस्याओं के लिए अच्छा माना जाता है। यह न सिर्फ खुजली वाली त्वचा से राहत प्रदान करता है बल्कि त्वचा को चिकना और नरम भी बना देता है। इसलिए प्रभावित क्षेत्र पर नारियल का तेल लगाने से आराम मिलता है।

और पढ़ेंखुजली में छरीला के फायदे

लहसुन रिंगवर्म से दिलाये राहत (Garlic Beneficial for Ringworm)

लहसुन में अजोइना (Ajoene) नाम एक प्राकृतिक एंटी फंगल एजेंट (Antifungal agent) होता है जो फंगल संक्रमण को ठीक करने में मदद करता है। लहसुन की एक फांक छीलकर उसकी पतली स्लाइस काट लें, प्रभावित क्षेत्र पर पतली स्लाइस को रखे और उसके चारों ओर एक पट्टी लपेट लें और रात भर के लिए इसे छोड़ दें। इसकी जगह पर लहसुन के पेस्ट का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

और पढ़ेंदद्रु या खुजली में जंगली प्याज के फायदे

हल्दी रिंगवर्म से दिलाये राहत (Turmeric Beneficial for Ringworm)

हल्दी एक प्राकृतिक एंटीबायोटिक की तरह कार्य करता है। हल्दी और पानी को मिलाकर अच्छी प्रकार पेस्ट बना लें और रूई की सहायता से इसे प्रभावित क्षेत्र पर लगाएँ।

एलोवेरा रिंगवर्म से दिलाये राहत (Aloevera Beneficial for Ringworm)

एलोवेरा एंटी-फंगल और जीवाणुरोधी होते है। प्रभावित त्वचा पर सीधे ऐलोवेरा जेल को लगाएं और रात भर के लिए छोड़ दें। यह दाद चकत्ते आदि को ठीक करता है तथा यह त्वचा की स्वस्थ करने के लिए कईं पोषक तत्व और मिनरल प्रदान करता है।

और पढ़ेखुजली में कर्कोटकी के फायदे

सेब का सिरका रिंगवर्म से दिलाये राहत (Apple Cidar Vinegar Beneficial for Ringworm)

सेब के सिरके को रूईं की सहायता से दाद वाली जगह पर लगाए। दिन में कम से कम चार से पांच बार इसे दोहराए।

और पढ़ेदाद में नींबू के फायदे

टी ट्री ऑयल रिंगवर्म से दिलाये राहत (Tea Tree Oil Beneficial for Ringworm)

टी ट्री ऑयल कई प्रकार की त्वचा समस्याओं से राहत प्रदान करता है। संक्रमित क्षेत्र पर रूईं की सहायता से दिन में तीन से चार बार टी ट्री ऑयल लगाना बेहतर होता है।

सरसों के बीज रिंगवर्म से दिलाये राहत (Musturd Oil Beneficial for Ringworm)

सरसों के बीजों को पानी में आधे घण्टे के लिए भिगो दें उसके बाद इसे पीसकर संक्रमित स्थान पर लगाएं।

लेमन ग्रास का सेवन रिंगवर्म से दिलाये राहत (Lemon Grass Intake Beneficial for Ringworm)

लेमन ग्रास का काढ़ा बनाकर दिन में तीन बार पिए। इससे खुजली और संक्रमण दूर होते हैं।

जैतून की पत्तियों का सेवन रिंगवर्म से दिलाये राहत (Castor leaf Intake Beneficial for Ringworm)

जैतून की पत्तियों को दिन में दो से तीन बार चबाएँ। यह शरीर की प्रतिरक्षा क्षमता को बढ़ाते हैं।

और पढ़ेखुजली में क्षीरचंपा के फायदे

जोजोबा तेल और लेवेंडर तेल रिंगवर्म से दिलाये राहत (Jojoba oil and Lavender Oil Beneficial for Ringworm)

एक चम्मच जोजोबा तेल में एक बूंद लेवेंडर तेल की मिलाएं और इसे रूईं की मदद से प्रभावित हिस्से पर लगाएँ। यह बच्चों के लिए एक अच्छा विकल्प है।

नमक और सिरके का इस्तेमाल रिंगवर्म से दिलाये राहत (Use of Salt and Vinegar Beneficial for Ringworm)

नमक और सिरके को मिलाकर पेस्ट बना लें और इसे प्रभावित क्षेत्र पर दिन में पाँच बार लगाएं।

राई के बीज का इस्तेमाल रिंगवर्म से दिलाये राहत (Use of Musturd Beneficial for Ringworm)

राई के बीज को बारीक पीसकर नारियल तेल के साथ पेस्ट बनाए और दाद वाली जगह पर लगाए।

इमली के बीज का इस्तेमाल रिंगवर्म से दिलाये राहत (Use of Turmeric Paste Beneficial for Ringworm)

इमली के बीज को नींबू के रस में पीसकर दाद वाली जगह पर लगाने से शीघ्र ही दाद ठीक हो जाता है।

और पढ़ें: इमली के फायदे

नीम के पानी का इस्तेमाल रिंगवर्म से दिलाये राहत (Use of Neem Water for Beneficial for Ringworm)

नीम की ताजी पत्तियों को पानी में उबालकर पानी को ठंडा कर लें  तथा इस पानी को नहाने के लिए इस्तेमाल करने से दाद और खुजली में आराम मिलता है।

करेले के रस और गुलाबजल का इस्तेमाल रिंगवर्म से दिलाये राहत (Use of BitterGourd and Rosewater Beneficial for Ringworm)

करेले के पत्ते का रस और गुलाबजल मिलाकर लगाने से दाद में शीघ्र ही लाभ मिलता है।

दालचीनी के पत्ते के रस का इस्तेमाल रिंगवर्म से दिलाये राहत (Use of Cinnamon Beneficial for Ringworm)

दालचीनी के पत्ते को पीस कर शहद के साथ दाद वाली जगह पर लगाने से दाद जल्दी ठीक हो जाता है।

देसी घी का इस्तेमाल रिंगवर्म से दिलाये राहत (Use of Ghee Beneficial for Ringworm)

खुजली से आराम पाने के लिए देशी घी को प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं।

खीरे के रस का इस्तेमाल दाद से दिलाये राहत (Use of Cucumber Beneficial for Ringworm)

खीरे का रस रूईं की सहायता से प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं।

और पढ़ेखीरा खाने के फायदे

डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए ? (When to See a Doctor?)

दाद एक फंगल संक्रमण के कारण होता है जिसमें अत्यधिक खुजली एवं जलन होते हैं। यह बड़ी ही आसानी से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति और संक्रमित जानवरों से भी व्यक्तियों संक्रमित हो जाता है। उपचार के अभाव में यह तेजी से त्वचा पर बड़े चकत्तों के रूप में फैल जाता है साथ ही खुजली एवं जलन से व्यक्ति परेशान रहता है। अत दाद की शुरुआत में ही घरेलू उपचारों द्वारा इलाज करना चाहिए परन्तु यदि आराम न मिले या दाद बढ़ रहा हो तो तुरन्त डॉक्टर से सम्पर्क करना चाहिए।

और पढ़ें:

आचार्य श्री बालकृष्ण

आचार्य बालकृष्ण, आयुर्वेदिक विशेषज्ञ और पतंजलि योगपीठ के संस्थापक स्तंभ हैं। चार्य बालकृष्ण जी एक प्रसिद्ध विद्वान और एक महान गुरु है, जिनके मार्गदर्शन और नेतृत्व में आयुर्वेदिक उपचार और अनुसंधान ने नए आयामों को छूआ है।

Share
Published by
आचार्य श्री बालकृष्ण

Recent Posts

गले की खराश और दर्द से राहत पाने के लिए आजमाएं ये आयुर्वेदिक घरेलू उपाय

मौसम बदलने पर अक्सर देखा जाता है कि कई लोगों के गले में खराश की समस्या हो जाती है. हालाँकि…

8 months ago

कोरोना से ठीक होने के बाद होने वाली समस्याएं और उनसे बचाव के उपाय

अभी भी पूरा विश्व कोरोना वायरस के संक्रमण से पूरी तरह उबर नहीं पाया है. कुछ महीनों के अंतराल पर…

8 months ago

डेंगू बुखार के लक्षण, कारण, घरेलू उपचार और परहेज (Home Remedies for Dengue Fever)

डेंगू एक गंभीर बीमारी है, जो एडीस एजिप्टी (Aedes egypti) नामक प्रजाति के मच्छरों से फैलता है। इसके कारण हर…

9 months ago

वायु प्रदूषण से होने वाली समस्याएं और इनसे बचने के घरेलू उपाय

वायु प्रदूषण का स्तर दिनोंदिन बढ़ता ही जा रहा है और सर्दियों के मौसम में इसका प्रभाव हमें साफ़ महसूस…

9 months ago

Todari: तोदरी के हैं ढेर सारे फायदे- Acharya Balkrishan Ji (Patanjali)

तोदरी का परिचय (Introduction of Todari) आयुर्वेद में तोदरी का इस्तेमाल बहुत तरह के औषधी बनाने के लिए किया जाता…

2 years ago

Pudina : पुदीना के फायदे, उपयोग और औषधीय गुण | Benefits of Pudina

पुदीना का परिचय (Introduction of Pudina) पुदीना (Pudina) सबसे ज्यादा अपने अनोखे स्वाद के लिए ही जाना जाता है। पुदीने…

2 years ago