• Home
  • >>
  • घरेलु नुस्खे
  • >>
  • Mouth ulcers home remedies: मुँह के छाले में बहुत उपयोगी हैं यह घरेलु नुस्खे

घरेलु नुस्खे

Mouth ulcers home remedies: मुँह के छाले में बहुत उपयोगी हैं यह घरेलु नुस्खे

  • नवम्बर 06,2018
  • 0 comment

परिचय

मुँह का छाला जीभ या होंठों पर या मुँह के आस-पास स्थित उपकला में दरार के कारण मुँह के भीतर दिखाई देने वाले एक खुले घाव का नाम है। मुँह में छाले होने पर तेज जलन और दर्द (Mouth Sores) होता है, कुछ भी खाना या पीना मुश्किल हो जाता है। कुछ लोगों को तो भोजननलिका तक में छाले हो जाते हैं। मुँह में छाले होना एक सामान्य तकलीफ है, जो कुछ समय बाद अपने आप ठीक हो जाती है। कुछ लोगों को ये छाले बार-बार होते हैं और परेशान करते हैं। ऐसे लोगों को अपनी पूरी डॉक्टरी जाँच करानी चाहिए, ताकि उनके कारणों का पता लगाकर उचित इलाज किया जा सके।

Table of Content

  • Introduction
  • Causes of Mouth Ulcer
  • Home Remedies for Mouth Ulcer

कारण Mouth Ulcer Causes

मुँह में छाले होने के कोई एक नहीं, अनेक कारण हैं। जरूरी नहीं कि जिस कारण से किसी एक को छाले हुए हों, दूसरे व्यक्ति को भी उसी कारण से हों।

आयुर्वेद के अनुसार मुँह में छाले पेट की खराबी तथा पेट की गरमी की वजह से होते हैं। बदहजमी इसका मूल कारण है।

अत्यधिक मिर्च-मसालों का सेवन भी इसके लिए जिम्मेदार होता है, क्योंकि यदि पेट की क्रिया सही नहीं है, तो उसकी प्रतिक्रिया मुँह के छाले के रूप में प्रकट होती है।

कई बार कोई चीज खाते समय दांतों के बीच जीभ या गाल का हिस्सा आ जाता है, जिसकी वजह से छाले उत्पन्न हो जाते हैं। ऐसे छाले मुँह की लार से अपने-आप ठीक हो जाते हैं।

एलोपैथिक दवाओं के दुष्प्रभाव (साइड इफेक्ट) की वजह से भी मुँह में छाले हो सकते हैं, विशेषकर लंबे समय तक एंटीबॉयोटिक दवाओं का इस्तेमाल करने से। अधिक मात्रा में एंटीबॉयोटिक का इस्तेमाल करने से हमारी आंतों में लाभदायक कीटाणुओं की संख्या घट जाती है। नतीजतन मुँह में छाले पैदा हो जाते हैं।

गर्मी के मौसम में अक्सर लोगों के मुँह में छाले निकल आते हैं। अगर समय रहते इनका इलाज न किया जाए तो यह परेशानी और भी बढ़ जाती है।

मुँह के छालों के घरेलू नुस्खे Muh Ke Chale (Mouth Ulcer) Ke Liye Gharule Nuskhe

शहद

थोड़ा शहद मुँह के अल्सर पर लगाकर छोड़ दें। फिर कुछ घण्टे बाद यह प्रक्रिया दोहरायें। ऐसा करने से अल्सर ठीक होता है, साथ ही दर्द व खुजली में भी आराम मिलता है।

नारियल तेल

नारियल तेल को मुँह के अल्सर पर लगाकर छोड़ दें। फिर कुछ घण्टे बाद यह प्रक्रिया दोहरायें। मुख के छालों में आराम मिलता है।

टूथपेस्ट

मुँह के अल्सर पर टूथपेस्ट को लगाकर छोड़ दें और पानी से कुल्ला कर लें। यह प्रक्रिया ठीक होने तक प्रत्येक दिन करें।

संतरे का रस

दो ग्लास संतरे का रस, प्रत्येक दिन पीयें। इससे पेट की गर्मी शांत होती है और मुँह के छालों में आराम मिलता है।

लौंग तेल

रुई के फोहे को लौंग के तेल में डुबाकर मुँह के अल्सर पर लगाएँ। इससे छाले जल्दी ठीक होते हैं।

अमरूद के पत्ते
अमरूद के पत्तों को चबाने से भी मुँह और जीभ के छाले ठीक हो जाते हैं। छालों से राहत पाने के लिए अमरूद के पत्तों में कत्था मिलाकर चबाएं। 2 से 3 बार इसको चबाने से मुँह के छाले दूर हो जाते हैं। 

हल्‍दी
हल्दी भी छालों से राहत दिलाने में सहायक है। रोजाना सुबह-शाम हल्दी वाले पानी से गरारे करने से छालों और उससे होने वाले दर्द से राहत पाई जा सकती है।

देसी घी
मुँह और जीभ के छालों से छुटकारा पाने के लिए रात को सोने से पहले देसी घी को छालों पर लगाएं। घी लगाने से सुबह तक छाले गायब हो जाएंगे। 

 

आचार्य श्री बालकृष्ण

आचार्य बालकृष्ण, आयुर्वेदिक विशेषज्ञ और पतंजलि योगपीठ के संस्थापक स्तंभ हैं। चार्य बालकृष्ण जी एक प्रसिद्ध विद्वान और एक महान गुरु है, जिनके मार्गदर्श...

सम्बंधित लेख

सम्बंधित लेख

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

पतंजलि उत्पाद