डिप्रेशन

डिस्क्रिप्सन

विवरण
 
इसे उदास, देखी, निराश या ऊर्जा का अभाव होने के एहसास के रूप में वर्णित किया जा सकता है। निराश व्यक्ति को वह सब काम करने में ख़ुशी नहीं मिलती है जो पहले मिला करती थी। यहाँ तक कि नगण्य दैनिक दिनचर्या जैसे खाना खाने की रूचि भी ख़त्म हो जाती है। निराश लोग पूरी तरह से अप्रेरित महसूस करते हैं और किसी भी चीज में उनका मन नहीं लगता है।
 
कारण और जोखिम कारक  
 
डिप्रेशन या अवसाद का सटीक कारण मालूम नहीं है। आम तौर पर ऐसा माना जाता है कि सभी मानसिक विकार एक जटिल परस्पर क्रिया के कारण और जैविक, मनोवैज्ञानिक और सामजिक कारकों के संयोजन के कारण होता है। डिप्रेशन आनुवंशिक गड़बड़ी के कारण हो सकता है या कुछ तनावपूर्ण घटनाओं के कारण हो सकता है। कभी-कभी यह दोनों के संयोजन के कारण भी हो सकता है।
 
डिप्रेशन के निम्नलिखित कारण हो सकते हैं:
1. शराब या नशीली दवा
2. हाइपोथाइरोइडिज्म सहित कुछ ख़ास चिकित्सा अवस्था
3. डिप्रेशन का परिवारिक इतिहास
4. केंद्रीय तंत्रिका तंत्र सम्बन्धी बीमारी और चोट जैसे ब्रेन  ट्यूमर, सिर का आघात, मल्टीपल स्क्लेरोसिस, स्ट्रोक
5. चिरकालिक बीमारी जैसे कैंसर
6. चिरकालिक दर्द
7. स्टेरॉयड जैसी कुछ ख़ास दवा
8. सोने से संबंधित समस्या
9. तनावपूर्ण जीवन घटनाएं, जैसे :
10. प्यार में निराशा
 
 
संकेत और लक्षण
 
डिप्रेशन के लक्षणों में शामिल हो सकता है:
1. लगातार उदास, खिन्न मनोदशा
2. निराशा और निराशावाद की भावना
3. काम में दिलचस्पी ख़त्म होना जिसमें पहले मजा आता था
4. थकान और ऊर्जा की कमी
5. बेचैनी, और चिड़चिड़ापन
6. अलगाव और सामाजिक वापसी
7. ध्यान लगाने, विवरणों को याद रखने, निर्णय लेने में कठिनाई
8. भूख में बदलाव, जिससे या तो वजन बढेगा या घटेगा
9. बेकार होने की भावना, अपने आप से नफरत, और अपराध
10. मरने या आत्महत्या करने का विचार
11. अनिद्रा, सोने में कठिनाई या बहुत ज्यादा नींद आना
 
जांच-पड़ताल
 
1. डॉक्टर, विस्तृत चिकित्सा इतिहास लेकर और शारीरिक परीक्षा करके डिप्रेशन को ख़त्म कर सकता है।
कोर्टिकोस्टेरॉयड जैसी दवाओं के इतिहास और नशीली दवा या शराब के सेवन को नोट करना चाहिए।
2. खून की जांच जैसे इलेक्ट्रोलाइट्स, लीवर फंक्शन, और किडनी फंक्शन टेस्ट से डिप्रेशन के संभावित कारणों का पता लगाने में मदद मिल सकती है।
3. ब्रेन ट्यूमर जैसी गंभीर बीमारियों को समाप्त करने के लिए मस्तिष्क का सीटी स्कैन या एमआरआई
किसी असामान्य मस्तिष्क गतिविधि को रिकॉर्ड करने के लिए ईईजी (इलेक्ट्रोएन्सेफालोग्राम)
 
इलाज
 
इसमें शामिल है,
1. दवा: एंटी-डिप्रेसेंट्स जैसे  
a) सेलेक्टिव सेरोटोनिन रि-अपटेक इन्हिबिटर (एसएसआरआई)
b) सेरोटोनिन नार एपिनेफ्राइन रिअपटेक इन्हिबिटर (एसएनआरआई)
c) ट्राईसाइक्लिक एंटीडिप्रेसेंट्स

2.मनोचिकित्सा: इसके तहत रोगी को उसकी भावनाओं और विचारों के बारे में बात करते समय उसे सलाह दी जाती है, और उसका मार्गदर्शन किया जाता है कि डिप्रेशन से कैसे निपटना चाहिए। इससे रोगियों को विचारों और भावनाओं के पीछे छिपे मुद्दों को समझने में मदद मिलती है। इसमें शामिल होगा,  
a) कोगनिटिव बिहेवियरल थेरपी यानी संज्ञानात्मक आचरण चिकित्सा से पता चलता है कि नकारात्मक विचारों से कैसे लड़ना चाहिए। रोगियों को लक्षणों के बारे में जागरूक भी किया जाता है, उसके कारणों से निपटना सिखाया जाता है, समस्या का समाधान करने का कौशल भी सिखाया जाता है।
b) ग्रुप थेरपी

3. अन्य इलाजों में शामिल है,
a) इलेक्ट्रोकन्वलसिव थेरपी (ईसीटी), मनोवैज्ञानिक लक्षणों वाले गंभीर डिप्रेशन का एक अकेला सबसे प्रभावी इलाज है और यह आम तौर पर सुरक्षित होता है।
b) ट्रांसक्रेनियल मैग्नेटिक स्टिमुलेशन (टीएमएस) में मस्तिष्क में तंत्रिका कोशिकाओं को उत्तेजित करने के लिए ऊर्जा के आवेग शामिल होते हैं जो मनोदशा को प्रभावित करता है।
 
जटिलताएं और आपको डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए
 
1. आत्महत्या
2. शराब या नशीली चीज, धूम्रपान
3. अन्य मानसिक रोगों के जोखिम में वृद्धि
 
रोग की पहचान और रोकथाम  
 
इस रोग की रोकथाम करने के लिए इन ‘करें’ और ‘न करें’ का पालन करें, 
1. शराब न पीयें या ड्रग्स न लें। इससे डिप्रेशन और बढ़ सकता है और आत्महत्या का विचार भी आ सकता है।
2. डॉक्टर के निर्देशानुसार ही दवा लें।
3. ऐसे-ऐसे कार्य करें जिनसे ख़ुशी मिलती है या रोजमर्रा के काम अलग-अलग तरीके से करें।
4. डिप्रेशन बढ़ाने वाले विचारों पर ध्यान देने के बजाय, अपना ध्यान किताबें पढ़ने, गाना सुनने, इत्यादि जैसे क्रियाकलापों की तरफ मोड़ें।
5. नियमित रूप से व्यायाम या योग करें।
6. सामूहिक क्रियाकलापों में शामिल हों
7. करीबी लोगों के साथ बात करें और उन्हें अपनी भावनाओं के बारे में बताएं
Content Details
Last updated on:
28 Dec 2016 | 12:02 AM (IST)
editorial-image
Want to know more?
Read Our Editorial Policy

ज़्यादा पूछे जाने वाले प्रश्‍न

अभी उपलब्ध नही है, जल्द ही अपडेट होगा